हे श्याम तेरी बंसी, भजन

हे श्याम तेरी बंसी पागल कर जाती है,
मुस्कान तेरी मेटी गयल कार जाती है,
हे श्याम तेरी बंसी पागल कर जाती है,
मुस्कान तेरी मेटी गयल कार जाती है,

सोते को जागते हो..रूठे को हसते हो
सोते को जागते हो..रूठे को हसते हो
रूथोंकी मानने की, कला तुमको आती है
हे श्याम तेरी बंसी पागल कर जाती है,
मुस्कान तेरी मेटी गयल कार जाती है,

यदि गोरे होते तो, क्या करते योगेश्वर
यदि गोरे होते तो, क्या करते योगेश्वर
जब सावरे रंग पर ही, डौनिया मार जाती है
हे श्याम तेरी बंसी पागल कर जाती है,
मुस्कान तेरी मेटी गयल कार जाती है,

सोने की होती तो, क्या करती ये बंसी
सोने की होती तो, क्या करती ये बंसी
जब बाज़ की हो करके, इतना तड़पति है
हे श्याम तेरी बंसी पागल कर जाती है,
मुस्कान तेरी मेटी गयल कार जाती है,

हे श्याम तेरी बंसी पागल कर जाती है,
मुस्कान तेरी मेटी गयल कार जाती है,
हे श्याम तेरी बंसी पागल कर जाती है,
मुस्कान तेरी मेटी गयल कार जाती है,

Recommended Posts

No comment yet, add your voice below!


Leave a Reply