Saturn Transits to Natal Sun

Saturn Transits to Natal Sun

Saturn Transits to Natal Sun

It happens every 29 years. Saturn stays in one sign for 2.5 years. Which is long period than other planets although it is known as a slow moving planet among all 9 planets.

Saturn transits to your natal Sun make you question whether  you are satisfied or not with yourself and force you to make more efforts to correct all your past mistakes. Your romantic feelings and your love relationships also suffer a crisis so that you learn to truly reflect your inner being. Saturn represents limitations,being alone , setbacks, responsibility, and patience. It is gain through losses. It is our insecurities.

We should reap what we sow. We should delay gratification, cultivate patience, and become responsible. We should not take things for granted, and we have to become productive, useful people in some manner or else we will perish.

The first Saturn transit over the natal Sun signals the end of innocence. Actually, it signals the end of native ignorance too, if one is willing and able. The first Saturn transit over the natal sun signifies the first time in the life of a person that he or she becomes aware that he or she occupies a space  within the larger world. Children who experience this may often come out wise beyond their years, if Saturn manifests as a person to whom the child unduly becomes responsible for. Teenagers may have some something manifest in their lives that suddenly robs them of their innocence, and adults who experience this transit for the first time tend to be, the shock of sudden responsibility, of having to realize their limits, can be worse when they are conditioned to think otherwise.

Saturn Transits to Natal Sun

It indicates the end of associations, but often, these are good things, as they are distractions from the real work one must be doing. They do often indicate a separateness from peers or from the family name, and can either be a desire to individuate or a desire to salvage it from the rubble heap. Saturn transits to the natal sun indicate a desire not to repeat the mistakes of the people who came before us and the work to be done in order to not do that again.

also it gives aloneness. Saturn teaches us that one doesnt need to approval of others to be valid; we are valid because we exist. Saturn teaches us to depart from those who no longer serve us, and to let go of people who need to travel elsewhere. It teaches us that we can weather emotional storms, as they too, pass.

 

Which rudraksha is best, Rudraksha price, Rudraksha benefits by Mukhi

Which rudraksha is best, Rudraksha price, Rudraksha benefits by Mukhi

Which rudraksha is best, Rudraksha price, Rudraksha benefits by Mukhi

Which rudraksha is best for you?

One Mukhi Rudraksha

First a fall rudraksha is a fruit of god Shiva. One Mukhi Rudraksha is represented by Sun- the center of the Solar system around which all the planets revolve. This mukhi is effective controls the malefic effects of Sun and cure diseases of the right eye, head, ear, bowel, and bones. Psychologically the confidence, charisma, leadership qualities and prosperity of the person increases as the Sun is pleased with native.

Two Mukhi Rudraksha

The ruling planet of this Mukhi Rudraksha is the Moon. This effectively controls the malefic effects of the Moon and diseases of the left eye, kidney, intestines, etc, as a result, Emotionally, there is harmony in relationships.
Than

Three Mukhi Rudraksha

The ruling planet of this Rudraksha is Mars which astrologically represent Agni or fire. Malefic effects are diseases of the blood, blood pressure, weakness, disturbed menstrual cycle, kidney, etc, as a result, other malefic effects are depression, negative and guilty feelings, inferiority complexes and these malefic effects can be lessened by wearing this mukhi.

Four Mukhi Rudraksha

Almost The ruling planet is Mercury, representing Goddess Saraswati and Vishnu. Malefic effects of Mercury include intellectual dullness, lack of grasping and understanding power, difficulty in effective communication and also neurotic conditions of the mind. 
This Mukhi nullifies the malefic effects of Mercury and pleases Goddess Saraswati and Lord Vishnu. It also governs logical and structural thinking.

Five Mukhi Rudraksha

The ruling planet of this Rudraksha is Jupiter. This mukhi is used to sublimate the malefic effects of Jupiter such as lack of peace, poverty, lack of harmony, etc. The native’s wisdom and intelligence shall increase.

Six Mukhi Rudraksha

The ruling planet of this Rudraksha is Venus. as a result, Venus governs genital organs, throat, valor, sexual pleasure, love music, etc. by these results wearing this Rudraksha you will get maximum pleasure.
Above all Rudraksha are available on Astro Shop
Retrograde Saturn in Different Houses

Retrograde Saturn in Different Houses

Therefore, Retrograde Saturn in Different Houses, retrograde Saturn in the 1st house

Retrograde Saturn in the 1st house

Ascendant: Retrograde Saturn in the 1st house shows that the individual did not develop flexibility in the previous life and set his own ways on the basis of his own ways on the basis of his personal opinion.

However, It may be borne in mind that even the Sign in which retrograde Saturn is posited has to have a telling effect on the native. The native will have problems with ego and thereby the individual would not have developed good character and personality. The native will have a tendency to be sober, serious and contemplative.

Retrograde Saturn in the 2nd house

Also, Saturn in retrogression posited in the 2nd house reflects that the native in the past life was highly materialistic, emphasizing solely on possession on self-centered attitude having no regard for the material aspect of others. Despite denials, limitations and disappointment, retrograde Saturn in the 2nd will enable the native to manage and set side sizeable earning by way of accumulation. The exertion undergone by the native would be remarkable.

Retrograde Saturn in the 3rd house

However, There was undoubtedly an avoidance of responsibility concerning brothers and sisters. The native’s mental attitude would have been wanting since he would not have made an effort for self-development and communicating with others.

Shree Sharp Suktam Hindi, Sarpa suktam benefits

Saturn Retrograde in the 4th house

The failure would have been related to mother, education, residence etc. The native would have neglected or abused human feelings. Regardless of the effort required, the individual should establish proper home facilities and create a constructive atmosphere at home and surroundings.

5th house Saturn Retrograde

There is a possibility for denial of children, with a rare chance of limited progeny and that such a child can be differently abled. Such a native should cultivate the habit to be very good to young folks.

Raksha Bandhan 2018 :Messages, Wishes, Images, WhatsApp Greetings

In 6th House

Presence of retrograde Saturn in the 6th will make the native shirk responsibility and moreover, he would have earned the displeasure of the public, due to his negligence.

In 7th house Retrograde

Partnership in matrimony or in business would have gone haywire by lack of faith in each other. Carnal and material desire left in doldrums can force a person to carry forward the retrogression of Saturn in the 7th in the following birth. 

8th House Retrograde

A neglected pursuit of metaphysical teaching, higher truthlearning, astrology and so forth, and also having gained these, misusedthe knowledge would have resulted in Saturn occupying the 8th housein retrogression affecting the nature of life.

Madhumati Yogini Sadhana in Hindi

Therefore Saturn Retrograde in 9th House

The philosophy of life had been left in the lurch while masquerading in the previous life with scant respect for dharma, leave alone karma.

 

 

 

Effects of venus in different houses in Hindi

Effects of venus in different houses in Hindi

Effects of venus in different houses in Hindi,Venus in 6th House

Venus in 6th House

1-शुक्र की दशा मेष राशि वालों अच्छी नहीं होती है। यदि कुण्डली में शुक्र छठें, आठवें, बारहवें व पाप ग्रहों से युक्त व दृष्ट हो व्यक्ति को शुक्र से सम्बन्धित कई रोगों का सामना करना पड़ता है।
2-अगर सप्तम भाव में बुध व शुक्र हो तो एक स्त्री होती है और सप्तमेश व द्वितीयेश शुक्र के साथ अथवा पाप ग्रहोे के साथ होकर छठे, आठवें व बारहवें भाव में स्थित हो तो एक स्त्री मर जाती है। फिर दूसरा विवाह होता है।
3-मिथुन लग्न हो, लग्न में बुध, शुक्र, केतु व राहु हो तथा सप्तमेश गुरू दूसरे स्थान में पाप ग्रह के साथ हो व शनि सातवें भाव को देख रहा हो तो दो विवाह होते है लेकिन दोनों स्त्रियॉ मर जाती है।
विवाह उतना ही जल्दी होता है
7-लग्नेश से शुक्र जितना नजदीक होता है विवाह उतना ही जल्दी होता है।
8-शुक्र व मंगल लग्न, चतुर्थ, छठें, सातवें, आठवें व बारहवें हो तो जातक का प्रेम विवाह होता है।
9-शुक्र मंगल के साथ छठें भाव में हो तो मनुष्य कामी होता है। शुक्र मिथुन या तुला राशि में हो तो स्त्री-पुरूष दोनों कामी होते है।
शुक्र ग्रह से होने वाले रोग
1-छठें भाव का मालिक शुक्र के साथ लग्न या अष्टम भाव में हो तो ऑख के रोग होते है।
2-सिंह राशि में सूर्य को शुक्र देख रहा हो तो पाइल्स रोग हो सकता है।
3-शुक्र अस्त हो, छठेें, आठवेे, बारहवेें भाव में हो तो मूत्र रोग, पथरी, वीर्य की कमी, कान रोग, शीघ्र पतन, स्वपन दोष व क्षय रोग आदि होते है।
4-शुक्र व चन्द्र अपने शत्रु के साथ हो तो व्यक्ति को कम सुनाई देता है।
मंगल तथा सप्तम में गुरू
5-लग्न में मंगल तथा सप्तम में गुरू व मंगल हो तो सिर में चोट-चपेट लग सकती है।
6-अष्टमेश पर शुक्र की दृष्टि तथा सूर्य के साथ शनि व राहु हो तो सिर का बड़ा आपरेशन होने की आशंका रहती है।
7-मेष या कर्क राशि में होने पर दॉतों में पायरिया रोग हो जाता है।
पाप ग्रहों से दृष्ट हो
8-शुक्र षष्ठेश होकर लग्न में हो व पाप ग्रहों से दृष्ट हो तो जातक को मुख में सूजन हो सकती है। 12वें स्थान में शुक्र, पंचम, नवम में शनि व सप्तम में सूर्य हो दन्त रोग हो सकता है।
9-नीच राशि में शुक्र के साथ राहु हो तो कान में चोट लगती है एंव तृतीयेश शुक्र के साथ हो तो कम सुनाई देता है।
10-दशम स्थान में शुक्र व राहु एक साथ हो तो सर्प से भय रहता है। जानवरों से भी चोट-चपेट लग सकती है।

Yellow Sapphire Pukhraj 5 Carat Natural Lab Certified, Yellow sapphire ring

Sagittarius Ascendant Vedic Astrology

 

Result of Shani Mahadasha in different different Antardasha

Result of Shani Mahadasha in different different Antardasha

Result of Shani Mahadasha in different different Antardasha

शनि महादशा में विभिन्न अन्तर्दशा के फल

ज्योतिष में माना जाता है कि पूर्व जन्म के पाप-पुण्य का फल वर्तमान के ग्रहों की दशादि से प्रकट होता है। एेसे में अनिष्ट को रोकने एवं अच्छे फल के लिए दशाभुक्ति का ज्ञान होना जरूरी है। ज्योतिष ग्रन्थ जातक पारिजात के अनुसार किसी व्यक्ति के जीवन में मिलने वाले फल दशाआें से उसी प्रकार निर्धारित होते हैं, जैसे वर्ण व्यवस्था में भोग व्यवस्था होती है। ज्योतिष ग्रन्थ सारावली के अनुसार सभी ग्रह अपनी दशा मे अपने गुण-दोष के आधार पर शुभाशुभ फल प्रदान करते हैं। ऐसे में पापग्रह माने जाने वाले शनि की दशाआें का विवेचन ज्योतिषियों ने गहन शोध एवं अनुभव के आधार पर किया है। एेसा इसलिए कि शनि अनुकूल होने पर सुख की झडी लगा देता है, तो प्रतिकूल होने पर भयंकर कष्ट देता है।

शनि की साढेसाती, ढैैैैया, कंटक, महादशा, अंतर्दशा और यहां तक कि प्रत्यंतर्दशा भी घातक होती है। शनि के प्रकोप से ही राजा विक्रमादित्य को भयंकर कष्ट भोगने पडे। भगवान राम को वनवास भोगना पडा। वैसे, शनि को न्याय का देवता कहा जाता है। अत: इसकी दशा इत्यादि में अच्छे ज्योतिष से परामर्श लेकर उचित उपाय किए जाएं तो शनिदेव का कोप कुछ शांत भी किया जा सकता है।

जानते है की शनि की महादशा के अन्तर्गत शनि, बुध, केतु, शुक्र, सूर्य, चन्द्रमा, मंगल, राहु एवं बृहस्पति की अन्तर्दशाएं आती हैं। देखते हैं इन अन्तर्दशाआें के परिणाम-

शनि की अन्तर्दशा

शनि महादशा में जब शनि की अन्तर्दशा में जातक पर दु:खों यानी कष्टों का पहाड टूट पडता है। उसको बार-बार अनादर यानी अपमान का सामना करना पडता है। वह समाज विरोधी और घूमंतु हो जाता है। उसके कारण पत्नी-पुत्र दु:खी होते हैं। जातक लंबी बीमारियों से भी परेशान रहता है।

बुध की अन्तर्दशा

जब शनि महादशा में जब बुध क अन्तर्दशा आती है, तब जातक के भाग्य मेें वृद्धि होती है। सुख-संपत्ति और सम्मान में बढोतरी होती है। वह आनंद का अनुभव करता है। जातक सदाचार की ओर प्रवृत्त होता है। चित्तवृत्ति कोमल निर्मल हो जाती है।Shree Sharp Suktam Hindi, Sarpa suktam benefits

शनि में केतु की अन्तर्दशा

शनि महादशा में केतु की अन्तर्दशा में पत्नी और सन्तान से वैचारिक मतभेद उभरते हैं। जातक के मन में भय बढता है। पित्त एवं वातजनित बीमारियों से वह परेशान रहता है। बुरे-बुरे सपने देखता है और अनिद्रा का शिकार होता है। यानी उसे पूरी नींद नहीं आती। रातभर बुरे भाव मन में आते रहते हैं और आशंकाएं उभरती रहती हैं।

शुक्र की अन्तर्दशा

जब  शनि महादशा में शुक्र की अन्तर्दशा में व्यक्ति के दु:खों का अंत होकर सुख मिलने लगता है। उसके संपर्क में उसके हित में सोचने वाले आते हैं। यश और सम्मान की प्राप्ति होती है। शत्रुआें का शमन होता है। पुत्र एवं कार्यक्षेत्र यानी प्रोफेशन एवं नौकरी से सुख प्राप्त होता है।

शनि में सूर्य की अन्तर्दशा

शनि महादशा में सूर्य की अन्तर्दशा आने पर जातक को विभिन्न प्रकार के संकटों का सामना करता पडता है। पत्नी, पुत्र, सम्मान, यश, संपत्ति एवं आत्मविश्वास का नाश होता है। नेत्र एवं उदर रोग परेशान करते हैं। दरअसल, शनि और सूर्य घोर शत्रुु माने गए हैं। इसलिए शनि में सूर्य की अंतर्दशा कष्टकारी रहती है।

चन्द्रमा की अन्तर्दशा

जब शनि महादशा में चन्द्रमा की अन्तर्दशा में सुखों का क्षरण होता है यानी सुख में कमी आती है। जातक को पत्नी वियोग झेलना पड सकता है। आत्मीयजनों से संबंध विच्छेद की स्थितियां बनती हैं। व्यक्ति को वातजन्य बीमारी घेरती है। हालांकि धनागम होता है यानी पैसा आता है।Astro Shop

मंगल की अन्तर्दशा

शनि महादशा में ङ्कंगल क अन्तर्दशा जातक को स्थानांतरण करवाती है। दूसरे शब्दों में पत्नी, पुत्र, मित्र इत्यादि से दूर जाना पडता है। जातक भयभीत और आशंकति-सा रहता है। यश में कमी आती है।

राहु की अन्तर्दशा

जब शनि महादशा में राहु की अन्तर्दशा में स्वास्थ्य संबंधी परेशानी होती है यानी यह अंतर्दशा रोग लाती है। सरकार और शत्रु से परेशानी होती है। संपत्ति एवं यश की हानि होती है। हर काम में बाधा आती है।

बृहस्पति की अन्तर्दशा

शनि महादशा में बृहस्पति की अन्तर्दशा आमतौर पर श्रेष्ठ फल प्रदान करती है। जातक का गृहस्थी सुख बढता है। स्थाई संपत्ति में वृद्धि होती है। पदोन्नति होती है एवं सम्मानजनक पद की प्राप्ति होती है। इस दशा में जरूरत पडने पर जातक को सत्ता का संरक्षण भी मिलता है। जातक के मन में वरिष्ठजनों एवं धर्म के प्रति आदरभाव बढता है। वैसे, शनि महादशा मेें विभिन्न ग्रहों की अन्तर्दशाआें के उपरोक्त फल जन्मकुंडली मेें ग्रहाेें
के पारस्परिक संबंधों पर निर्भर है। इसलिए जन्मकुंडली में यह देखकर ही फलादेश किया जाना चाहिए।Pitru Paksha 2018 Pitru Paksha 2019 Pitru Paksha 2020 Dates

शनि के प्रकोप से बचने के उपाय

शनि की साढे साती, ढैया, महादशा एवं अन्तर्दशा में शनि के प्रकोप से बचने के लिए कई उपाय किए जाते हैं। निम्नलिखित उपायों में से अपनी श्रद्धा एवं क्षमतानुसार कोई उपाय करके शनिदेव को शान्त करने का प्रयास किया जा सकता है :

1. किसी शु्क्ल पक्ष के शनिवार से शुरू कर वर्षभर हर शनिवार को बन्दरों और काले कुत्तों को लड्डू खिलाएं।

2. शनिवार को काली गाय के मस्तक पर रोली का तिलक लगा, सींगों पर मौळी बांधकर पूजन करने के बाद गाय की परिक्रमा कर उसे बूंदी के चार लड्डू खिलाएं।

3. हर शनिवार बन्दरों को मीठी खील, केला, काले चने एवं गुड खिलाएं।

4. हर शनिवार को काले कुत्ते को तेल से चुपडी रोटी मिठाई सहित खिलाएं।

5. शनिवार को व्रत रखें। नमक रहित भोजन से व्रत खोलें। सूर्यास्त के बाद हनुमान जी का पूजन दीपक में काले तिल डालकर तेल का दीपक प्रज्वलित करके करें।

6. शनिवार को पीपल के वृक्ष के चारों ओर सात बार परिक्रमा करते हुए कच्चा सूत लपेटें। इस दौरान ॐ शं शनैश्चाराय नमः: मंंत्र का उच्चारण करते रहें।

7. शनिवार को कच्चे दूध में काले तिल डालकर शिवलिंग पर अभिषेक करें।

8. रोजाना प्रात: शनि के इन दसनामों का उच्चारण करना चाहिए-
कोणस्थ, पिंंगल, बभ्रु, कृष्ण:, रौद्रान्तक:, यम:, शौरि:, शनैश्चर:, मन्द:, पिप्पलादेव संस्तुत:।

9. सूर्यास्त के बाद पीपल के वृक्ष के नीचे ॐ शं शनैश्चाराय नमः:मंत्र का जप करते हुए सरसों के तेल में काले तिल डाल आटे का चौमुखा दीपक प्रज्वलित कर पीपल क सात परिक्रमा करें।

10. झूठ न बोलें, चरित्र सही रखें और मांस अाैैैर मदिरा का सेवन न करें।

11. मंगलवार का व्रत करें। प्रत्येक मंगलवार को हनुमान मंदिर में हनुमान जी की मूर्ति के आगे के पैैैर पर लगेे सिंंदूर का तिलक कर 11 बार बजरंग बाण का पाठ करें।