Saturn Transit 2020 Vedic Astrology

Saturn Transit 2020 Vedic Astrology

Saturn Transit 2020 Vedic Astrology, Saturn Transit 2020 is performing a vital role in Vedic astrology most of the horoscopes depend upon the Saturn transits., Saturn Transit 2020 Date and Time. Acharya Gaurav Arya telling Effects of Saturn Transit on signs.

Saturn Transit 2020 Date and Time

Saturn Transit 2020 Vedic Astrology, According to Saturn Transit 2020, Saturn will transit from Sagittarius to its own Zodiac Sign Capricorn on 24th January 2020 at 12:05 PM. Saturn enters its other sign Aquarius from 29th April 2022. From 12th July 2022 Saturn moving in retrograde mode again enters earth sign Capricorn. Saturn again enters its other sign Aquarius from 17th January 2023. Now let see Effects of Saturn on signs.

Why Saturn in Important?

  1. Sade Sati for Libra Moon Sign ended.
  2.  Scorpio Moon Sign reached the last phase.
  3. Whereas Sagittarius Moon Sign entered the second phase of it.
  4. While Capricorn Moon Sign started the first phase of Sade Sati.

Saturn is slow but the results of Saturn are very fast. The Zodiac Signs, Sagittarius and Capricorn have already been facing the Sade Sati period and Aquarius will be the one to join their team during this year, also Effects of Saturn Transit on signs.

Effects of Saturn on Aries Sign 2020 Transits

For Aries Sign, Saturn will transit in 10th house but Saturn also has lordship of 11th house as per rule. Saturn transits in own sign earth sign Capricorn. Saturn moves through the tenth house linked with occupation also your (Karma Kshetra) for your sign. Here Saturn will give you hard work as well.  A business person needs to have live contact with high worth customers to push ahead sales. Here Saturn will see your 12th house also so if Saturn is good in your chart then you will visit abroad also. After that Saturn will see your 4th house here you need to take care of your family and also your heart. In contrast, of health, You will have average health during the year 2020. And by the eye of 10th vision, Saturn will see your 7th house and will give you some disputes but very minor.

Effects of Saturn on Taurus Sign

As per Saturn Transit 2020, the ninth house and tenth house from your Moon Sign are ruled by Saturn. This transit might lead to differences between you and your father, but Saturn will improve your relation with your uncle and aunts.  The job holder may feel insecure about his/her position. You will take less interest in spiritual things. Sometimes you can get some good news from your office. After that Saturn will see your 11th house then you can get good news for gains. However, Saturn will see your 3rd house and will give you good results in your business or growth in the software business or consulting. After that Saturn will see your 10th house and will remove your hidden enemies.

Saturn Effects on Gemini Sign 2020 Transits

Saturn rules the eighth and the ninth house for your sign. so here Saturn will give you piles problem or stomach problem also. Who are working in government sector then native can arrest if he/she taking the bribe. Your financial conditions may aggravate. Also, At times, you may feel uneasy and unsafe. However,  Avoid taking important decisions, especially those related to your career. If inevitable, seek advice from your seniors and mentor. Here Saturn will see your 10th house and will give you an offer. Saturn will see your 2nd house and this is good for your finances. Therefore, Saturn will see your 5th house and not good for your children and also, not good for your decisions.

Astrologer Gaurav Arya

Effects of Saturn on Cancer Sign 2020 Transits

The seventh and the eighth house are the domain of Saturn for your sign. Married one needs to take care of the sensibilities of a life partner and not to do things that displease life partner. Risky driving might put your life at risk and thus, you are advised to avoid it by all means. A businessperson may find it difficult to deliver goods material in time as assured while finalizing a deal. You need to remain much careful about health. Take care of your relation also. Saturn Transit 2020 Vedic Astrology, The Effects of Saturn on Leo Sign 2020 Transits

Here Saturn is coming to your 6th house which is good for you because Saturn will feel good here. With its transit in your sixth house, it will help you to discover the right path, which will eventually lead you to success. You will get good money. A business person needs to formulate a strong strategy and lower margins to score over competitors, but you will get a good business scope also. You might put a strain on your physical and mental well-being. Here Saturn is seeing your 8th house also and will give you growth in occult science.

Health Horoscope

Saturn Effects on Virgo Sign 2020 Transits

Here Saturn will hold your 5th house. The transit will give them another chance to fulfill their dreams of getting the kind of education that they want. The business person dealing in the local market is to formulate a strong strategy to boost sales. Stay away from any discussion that may involve you in internal politics. Saturn will see your 7th house so you need to care for your partner also. Stay away from any discussion that may involve you in internal politics also. You are to remain in a comfortable position on the financial front. Saturn also sees your 11th house and will give you gain also. Also, Saturn will see your 2nd house which can give you wealth loses.

Saturn Effects on Libra Horoscope Predictions 2020 Transits

Here Saturn will transit in your 4th house. Saturn transiting in own sign Capricorn moves through the fourth house for your sign. This movement of Saturn seems progressive and prosperous for you. You will be surprised to find an impending project falling in your lap during the period of this transit. Saturn will enhance your 6th house and your hidden enemies will destroy. Also, Saturn will see your 10th house and will give you the chance to improve your karma and workspace. However, Saturn will visit your Lagna also, so you will feel laziness in your body and feel irritation in your eyes.

Saturn Effects on Scorpio Sign 2020 Transits

Saturn Transit 2020 Vedic Astrology, Saturn will transit in your 3rd house. This transit will bring an end to the Sade Sati period that you had been facing. Businessperson needs to keep exerting and wait patiently to tide to turn your way. Here Saturn will see your 5th house by 3rd vision gives you stomach problems. Your financial status will be good and your income will be good enough to cater to your needs. Here Saturn will also see your 9th house who gives you some problems into your mind or in back. This Transit would not favor your father’s health. The Job holder needs to try for improving performance to keep his/her position secured.

Saturn Effects on Sagittarius Sign 2020 Transits

Sagittarians will have Saturn sit in their second house. There might be some delays in getting money. It is better late than never. Be patient and you will reap what you sow. ou need to plan finance with the long term in view and keep enough provision for contingency. No major health issue is done with you. Here Saturn will visit your 4th house then Shani Dev gives less happiness into your family. This transit is also not good for your mother also. Traveling abroad does not seem to be a good idea this year. You will not get Family support also. Saturn will improve your 8th house also you will run towards the astrologers to find your problems.

The Saturn Effects on Capricorn Sign 2020 Transits

Saturn is the lord of Capricorn and will transit into your own Moon Sign as per Saturn Transit 2020.  Here Saturn will not give you good results as well. You may feel restless. However, the transit of Saturn in its own Zodiac sign will give you the strength and motivation to tackle your problems and emerge victoriously. You may incline to spend money to get some religious ritual to boost your prospects. A business person has to exert more and try to explore new territory to expand sales activities. Your business will improve. You may fight with your partner also. But careerwise this transit is good for you.

Aquarius Horoscope For Saturn Effects 2020 Transits

Saturn rules your sign and also rules the 12th house for your sign. You will have to face the harsh reality of life. However, with your hard work and determination, you will be able to cope up with the adverse situations. Career-oriented has to remain well focused at task on hand and try to give more output to keep his/her position secured. Saturn will see your 2nd house and will give you health issues and will lose your savings also. Misunderstandings might create a rift between you and your spouse. Saturn will remove your enemies also.

Saturn Effects on Pisces Sign 2020 Transits (Saturn Transit 2020 Vedic Astrology)

Here Saturn will transit into your 11th house however your get some gains from your family or office.  Progressive forces are to work effectively here. You are to remain in a healthy financial position. Large and accommodating opportunities will knock on your door during this period, so you should maintain your mind to use them. Here Saturn will see your first house and will give you a slow mind. You are able to manage routine and incidental expenses comfortably. Your married life will be good as you get along well with your spouse.

Want to Consult with Astrologer Gaurav Arya

 

Sri Damodarashtakam- Traditional ISKCON song for Lord Damodara

Sri Damodarashtakam- Traditional ISKCON song for Lord Damodara

Traditional ISKCON song for Lord Damodara or Sri Damodarashtakam

श्री श्री दामोदराष्टकं

नमामीश्वरं सच्-चिद्-आनन्द-रूपं

लसत्-कुण्डलं गोकुले भ्राजमनम्

यशोदा-भियोलूखलाद् धावमानं

परामृष्टम् अत्यन्ततो द्रुत्य गोप्या ॥ १॥

रुदन्तं मुहुर् नेत्र-युग्मं मृजन्तम्

कराम्भोज-युग्मेन सातङ्क-नेत्रम्

मुहुः श्वास-कम्प-त्रिरेखाङ्क-कण्ठ

स्थित-ग्रैवं दामोदरं भक्ति-बद्धम् ॥ २॥

इतीदृक् स्व-लीलाभिर् आनन्द-कुण्डे

स्व-घोषं निमज्जन्तम् आख्यापयन्तम्

तदीयेषित-ज्ञेषु भक्तैर् जितत्वं

पुनः प्रेमतस् तं शतावृत्ति वन्दे ॥ ३॥

वरं देव मोक्षं न मोक्षावधिं वा

न चन्यं वृणे ‘हं वरेषाद् अपीह

इदं ते वपुर् नाथ गोपाल-बालं

सदा मे मनस्य् आविरास्तां किम् अन्यैः ॥ ४॥

इदं ते मुखाम्भोजम् अत्यन्त-नीलैर्

वृतं कुन्तलैः स्निग्ध-रक्तैश् च गोप्या

मुहुश् चुम्बितं बिम्ब-रक्ताधरं

मे मनस्य् आविरास्ताम् अलं लक्ष-लाभैः ॥ ५॥

नमो देव दामोदरानन्त विष्णो

प्रसीद प्रभो दुःख-जालाब्धि-मग्नम्

कृपा-दृष्टि-वृष्ट्याति-दीनं बतानु

गृहाणेष माम् अज्ञम् एध्य् अक्षि-दृश्यः ॥ ६॥

कुवेरात्मजौ बद्ध-मूर्त्यैव यद्वत्

त्वया मोचितौ भक्ति-भाजौ कृतौ च

तथा प्रेम-भक्तिं स्वकां मे प्रयच्छ

न मोक्षे ग्रहो मे ‘स्ति दामोदरेह ॥ ७॥

नमस् ते ‘स्तु दाम्ने स्फुरद्-दीप्ति-धाम्ने

त्वदीयोदरायाथ विश्वस्य धाम्ने नमो

राधिकायै त्वदीय-प्रियायै नमो

‘नन्त-लीलाय देवाय तुभ्यम् ॥ ८॥

2019 Karwa Chauth Vrat date and Puja timings

2019 Karwa Chauth Vrat date and Puja timings

2019 Karwa Chauth Vrat date and Puja timings,Katha

Karwa Chauth on Thursday, October 17, 2019
Karwa Chauth Puja Muhurat – 05:50 PM to 07:05 PM
Duration – 01 Hour 15 Mins
Karwa Chauth Upavasa Time – 06:23 AM to 08:16 PM
Duration – 13 Hours 53 Mins
Moonrise on Karwa Chauth Day – 08:16 PM

करवा चौथ का व्रत 2019

करवा चौथ ,करवा नाम से लिया गया है जो मिट्टी का एक पात्र होता है 

कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवा चौथ का व्रत किया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं कुछ महिलाये जल का सेवन भी कर लेती है । करवा चौथ के व्रत का पूर्ण वर्णन वामन पुराण में किया गया है।
शास्त्रो के अनुसार इस दिन भगवान गणेश जी पूजा करनी चाहिए इस दिन साफ़ मिट्टी या बालू से एक छोटी प्रतिमा बनानी चाहिए और उसका पुरे विधि विधान से पूजन करना चाहिए |पूजा के बाद करवा चौथ की कथा सुननी चाहिए तथा चंद्रमा को अर्घ्य देकर छलनी से अपने पति को देखना चाहिए। पति के हाथों से ही पानी पीकर व्रत खोलना चाहिए।

Note-जो महिलाये प्रथम करवा चौथ कर रही है वो अगर निर्जल उपवास कर रही है तो हमेशा ही निर्जल  रहे और जो महिलाये नही रख रही है वो आगे भी न रखे

मंत्र से संकल्प ले -मम सुखसौभाग्य पुत्रपौत्रादि सुस्थिर श्री प्राप्तये करक चतुर्थी व्रतमहं करिष्ये.

उसके बाद इस तरह से तैयारी करे 

पूरे दिन निर्जल रहते हुए व्रत को संपूर्ण करें और दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा चित्रित करें. चाहे तो आप पूजा के स्थान को स्वच्छ कर वहां करवा चौथ का एक चित्र लगा सकती हैं जो आजकल बाजार से आसानी से कैलेंडर के रूप में मिल जाते हैं. हालाकि अभी भी कुछ घरों में चावल को पीसकर या गेहूं से चौथ माता की आकृति दीवार पर बनाई जाती है. इसमें सुहाग की सभी वस्तुएं जैसे सिंदूर, बिंदी, बिछुआ, कंघा, शीशा, चूड़ी, महावर आदि बनाते हैं. सूर्य, चंद्रमा, करूआ, कुम्हारी, गौरा, पार्वती आदि देवी-देवताओं को चित्रित करने के साथ पीली मिट्टी की गौरा बनाकर उन्हें एक ओढ़नी उठाकर पट्टे पर गेहूं या चावल बिछाकर बिठा देते हैं. इनकी पूजा होती है. ये पार्वती देवी का प्रतीक है, जो अखंड सुहागन हैं. उनके पास ही एक मिट्टी के करूए(छोटे घड़े जैसा) में जल भरकर कलावा बांधकर और ऊपर ढकने पर चीनी और रूपए रखते हैं. यही जल चंद्रमा के निकलने पर चढ़ाया जाता है.

Karva chauth katha in hindi

करवा चौथ की कथा सुनते समय महिलाएं अपने-अपने करूवे लेकर और हाथ में चावल के दाने लेकर बैठ जाती हैं. कथा सुनने के बाद इन चावलों को अपने पल्ले में बांध लेती हैं और चंद्रमा को जल चढ़ाने से पहले उन्हें रोली और चावल के छींटे से पूजती हैं और पति की दीर्घायु की कामना करती हैं. कथा के बाद करवा पर हाथ घुमाकर अपनी सासूजी के पैर छूकर आशीर्वाद लें और करवा उन्हें दे दें. रात्रि में चन्द्रमा निकलने के बाद छलनी की ओट से उसे देखें और चन्द्रमा को अर्घ्य दें. इसके बाद पति से आशीर्वाद लें. उन्हें भोजन कराएं और स्वयं भी भोजन कर लें.

एक साहूकार के सात पुत्र और एक पुत्री वीरवति थी. पुत्री सहित सभी पुत्रों की वधुओं ने करवा चौथ का व्रत रखा था. रात्रि में जब भाइयों ने वीरवति से भोजन करने को कहा, तो उसने कहा कि चांद निकलने पर अर्घ्य देने के बाद ही भोजन करूंगी. इस पर भाइयों ने नगर से बाहर जाकर अग्नि जला दी और छलनी से प्रकाश निकलते हुए उसे दिखा दिया और चांद निकलने की बात कही. वीरवति अपने भाई की बातों में आ गई. कृत्रिम चंद्र प्रकाश में ही उसने अर्घ्य देकर अपना व्रत खोल लिया.

भोजन ग्रहण करते ही उसके पति की मृत्यु हो गई. अब वह दुःखी हो विलाप करने लगी, तभी वहां से रानी इंद्राणी निकल रही थीं. उनसे उसका दुःख न देखा गया. ब्राह्मण कन्या ने उनके पैर पकड़ लिए और अपने दुःख का कारण पूछा, तब इंद्राणी ने बताया- तूने बिना चंद्र दर्शन किए करवा चौथ का व्रत तोड़ दिया इसलिए यह कष्ट मिला. अब तू वर्ष भर की चौथ का व्रत नियमपूर्वक करना तो तेरा पति जीवित हो जाएगा.

उसने इंद्राणी के कहे अनुसार चौथ व्रत किया तो पुनः सौभाग्यवती हो गई. इसलिए प्रत्येक स्त्री को अपने पति की दीर्घायु के लिए यह व्रत करना चाहिए.

करवा की कहानी: इस कथा के अनुसार, करवा नाम की एक पतिव्रता स्त्री थी. एक बार नदी में स्नान करते समय उसके पति को एक मगरमच्छ ने पकड लिया. कहते हैं कि करवा ने अपने पतिव्रत शक्ति से मगरमच्छ को एक धागे से बांध दिया और चल पडी यमलोक. वहां उसने मृत्यु के देवता यम से अपने पति को जीवनदान देने की प्रार्थना की. लेकिन यम नहीं माने. करवा क्रोधित हो गई. पतिव्रता स्त्री की शक्ति से भय खाकर यम ने करवा के पति को लंबी आयु प्रदान कर दी.

Saturn Transits to Natal Sun

Retrograde Saturn in Different Houses

Shree Sharp Suktam Hindi, Sarpa suktam benefits

Dhanteras Puja, Dhanteras Meaning 2019

Dhanteras Puja, Dhanteras Meaning 2019

Dhanteras Puja, Dhanteras Meaning 2019

  1. धनतेरस की शाम को जब सूरज ढल जाए तो एक दीप जलाएं और उसमें करीब 13 कौड़ियां रखें और उस दीप से मां लक्ष्मी और धनकुबेर की पूजा करें। आधी रात के बाद 13 कौड़ियां घर के किसी कोने में गाड़ दें। ये उपाय आपके घर में धन की बरसात ले कर आएगा।
  2. धनतेरस पर कुबेर यंत्र खरीदें और इसे अपने घर, दुकान के गल्ले या तिजोरी में स्थापित करें। इसके बाद 108 बार इस मंत्र ‘’ऊँ यक्षाय कुबेराय वैश्रववाय, धन-धान्यधिपतये धन-धान्य समृद्धि मम देहि दापय स्वाहा ‘’ का जाप करें। ये मंत्र आपके धन की कमी के संकट को हर लेगा।
  3. घर में चांदी के 13 सिक्के रखें और केसर-हल्दी लगाकर इसकी पूजा करें। इससे घर में बरकत बढ़ती है।
  4. धनतेरस पर 13 दीप घर के अंदर और 13 दीप घर के बाहर दहलीज और मुंडेर पर रखें।
  5. दीपावली पर लक्ष्मी पूजन में हल्दी की गांठ भी रखें। पूजा होने के बाद हल्दी की गांठ को घर में उस स्थान पर रखें, जहां धन रखा जाता है।
  6. दीपावली के दिन यदि संभव हो सके तो किसी किन्नर से उसकी खुशी से एक रुपया लें और इस सिक्के को अपने पर्स में रखें। बरकत बनी रहेगी।

वास्तु दोष के उपाय

  1. 1 धनतेरस या दीपावली पर महालक्ष्मी यंत्र का पूजन कर विधि-विधान पूर्वक इसकी स्थापना करें। यह यंत्र धन वृद्धि करता है।
  2. 2धनतेरस या दीपावली की सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि कामों से निपट कर किसी लक्ष्मी मंदिर में जाएं और मां लक्ष्मी को कमल के फूल अर्पित करें और सफेद रंग की मिठाई का भोग लगाएं। ये सबसे अचूक उपाय है।
  3. 3धनतेरस या दीपावली की शाम को घर के ईशान कोण में गाय के घी का दीपक जलाएं। बत्ती में रुई के स्थान पर लाल रंग के धागे का उपयोग करें। साथ ही दीए में थोड़ी केसर भी डालें।
  4. 4धनतेरस या दीपावली को विधिवत पूजा के बाद चांदी से निर्मित लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति को घर के पूजा स्थल पर रखना चाहिए। इसके बाद प्रतिदिन इनकी पूजा करने से घर में कभी धन की कमी नहीं होती और घर में सुख-शांति भी बनी रहती है।
  5. श्रीकनकधारा धन प्राप्ति व दरिद्रता दूर करने के लिए अचूक यंत्र है। यह यंत्र अष्टसिद्धि व नवनिधियों को देने वाला है। इसका पूजन व स्थापना भी धनतेरस या दीपावली के दिन करें।
  6. धनतेरस या दीपावली की रात को शुद्धता के साथ स्नान कर पीली धोती धारण करें और एक आसन पर उत्तर की ओर मुंह करके बैठ जाएं। अब अपने सामने सिद्ध लक्ष्मी यंत्र को स्थापित करें, जो विष्णु मंत्र से सिद्ध हो और स्फटिक माला से नीचे लिखे मंत्र का 21 माला जाप करें। मंत्र जाप के बीच उठे नहीं। ऊँ श्रीं ह्रीं श्रीं ऐं ह्रीं श्रीं का मंत्र पढ़ें।

Dhanteras Muhurt Time 2019

  • शुभ मुहूर्त की अवधि: 1 घंटा 55 मिनट
  • प्रदोष काल: शाम 5.29 से रात 8.07 बजे तक
  • वृषभ काल: शाम 6:05 बजे से रात 8:01 बजे तक
  • त्रयोदशी तिथि आरंभ: 5 नवंबर को सुबह 01:24 बजे
  • त्रयोदशी तिथि खत्म: 5 नवंबर को रात्रि 11.46 बजे

Dhanteras Pujan धनतेरस पूजन

धनतेरस के द‍िन इस मुहूर्त में करें खरीदारी

  • सुबह 07:07 से 09:15 बजे तक
  • दोपहर 01:00 से 02:30 बजे तक
  • रात 05:35 से 07:30 बजे तक

धनतेरस का त्यौहार और पूजन

धनतेरस का त्यौहार कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी को मनाया जाता है। इस दिन लोग भगवान धन्वन्तरि की पूजा करते हैं और यमराज के लिए दीप देते हैं। जोके भगवन शनि के भाई है |धनतेरस को धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है । धनतेरस का पर्व आयुर्वेद के देवता के जन्मदिन के रूप में भी मनाया जाता है।जिनको धन्वन्तरि के नाम से जाना जाता है |

Dhanteras Mantra Hindi धनतेरस मंत्र

दीपदान के समय इस मंत्र का जाप करते रहना चाहिए:

मृत्युना पाशदण्डाभ्यां कालेन च मया सह।
त्रयोदश्यां दीपदानात सूर्यज: प्रीयतामिति॥

इस मंत्र का अर्थ है:

त्रयोदशी को दीपदान करने से मृत्यु, पाश, दण्ड, काल और लक्ष्मी के साथ सूर्यनन्दन यम प्रसन्न हों। इस मंत्र के द्वारा लक्ष्मी जी भी प्रसन्न होती हैं।
इस दिन संध्या के समय कूड़े पर दीपक जलाना बड़ा ही शुभ मन जाता है |और निम्न मंत्र का जाप किया है
ॐ शं काल कालाये यमहै नमः

प्रदोषकाल (Dhanteras Muhurat)

दीपक को प्रदोष काल में ही जलाना चाहिए क्योंकि इस दिन प्रदोषकाल के समय दीपदान देना शुभ माना जाता है। दीपदान का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 38 मिनट से लेकर रात्रि 8 बजकर 10 मिनट तक है। इस दिन कुबेर भगवान और लक्ष्मी जी की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 6 बजकर 04 मिनट से लेकर रात्रि 07 बजकर 06 मिनट तक है।

धनतेरस पर खरीद कैसे करे –

नई चीजों के शुभ आगमन के इस पर्व में मुख्य रूप से नए बर्तन या सोना-चांदी खरीदना चाहिए । आस्थावान भक्तों के अनुसार चूंकि जन्म के समय धन्वंतरि जी के हाथों में अमृत का कलश था, इसलिए इस दिन बर्तन खरीदना अति शुभ होता है। विशेषकर पीतल के बर्तन खरीदना बेहद शुभ माना जाता है।पीतल या कांसा का बर्तन बहुत ही शुभ  माना जाता है |

धनतेरस कथा (Dhanteras Katha )

कहा जाता है कि इसी दिन यमराज से राजा हिम के पुत्र की रक्षा उसकी पत्नी ने किया था, जिस कारण दीपावली से दो दिन पहले मनाए जाने वाले ऐश्वर्य का त्यौहार धनतेरस पर सायंकाल को यम देव के निमित्त दीपदान किया जाता है। इस दिन को यमदीप दान भी कहा जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज के कोप से सुरक्षा मिलती है और पूरा परिवार स्वस्थ रहता है। इस दिन घरों को साफ-सफाई, लीप-पोत कर स्वच्छ और पवित्र बनाया जाता है और फिर शाम के समय रंगोली बना दीपक जलाकर धन और वैभव की देवी मां लक्ष्मी का आवाहन किया जाता है।

धनतेरस पूजन Dhanteras Pujan

25th October 2019 Friday / शुक्रवार

धनतेरस पूजन Dhanteras Pujan

धनतेरस का त्यौहार और पूजन

धनतेरस का त्यौहार कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी को मनाया जाता है। इस दिन लोग भगवान धन्वन्तरि की पूजा करते हैं और यमराज के लिए दीप देते हैं। जोके भगवन शनि के भाई है |धनतेरस को धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है । धनतेरस का पर्व आयुर्वेद के देवता के जन्मदिन के रूप में भी मनाया जाता है।जिनको धन्वन्तरि के नाम से जाना जाता है |

धनतेरस मंत्र (Dhanteras Mantra Hindi)

दीपदान के समय इस मंत्र का जाप करते रहना चाहिए:

मृत्युना पाशदण्डाभ्यां कालेन च मया सह।
त्रयोदश्यां दीपदानात सूर्यज: प्रीयतामिति॥

इस मंत्र का अर्थ है:

त्रयोदशी को दीपदान करने से मृत्यु, पाश, दण्ड, काल और लक्ष्मी के साथ सूर्यनन्दन यम प्रसन्न हों। इस मंत्र के द्वारा लक्ष्मी जी भी प्रसन्न होती हैं।
इस दिन संध्या के समय कूड़े पर दीपक जलाना बड़ा ही शुभ मन जाता है |और निम्न मंत्र का जाप किया है
ॐ शं काल कालाये यमहै नमः

प्रदोषकाल (Dhanteras Muhurat)

दीपक को प्रदोष काल में ही जलाना चाहिए क्योंकि इस दिन प्रदोषकाल के समय दीपदान देना शुभ माना जाता है। दीपदान का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 38 मिनट से लेकर रात्रि 8 बजकर 10 मिनट तक है। इस दिन कुबेर भगवान और लक्ष्मी जी की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 6 बजकर 04 मिनट से लेकर रात्रि 07 बजकर 06 मिनट तक है।

धनतेरस पर खरीद कैसे करे

नई चीजों के शुभ आगमन के इस पर्व में मुख्य रूप से नए बर्तन या सोना-चांदी खरीदना चाहिए । आस्थावान भक्तों के अनुसार चूंकि जन्म के समय धन्वंतरि जी के हाथों में अमृत का कलश था, इसलिए इस दिन बर्तन खरीदना अति शुभ होता है। विशेषकर पीतल के बर्तन खरीदना बेहद शुभ माना जाता है।पीतल या कांसा का बर्तन बहुत ही शुभ  माना जाता है |

धनतेरस कथा (Dhanteras Katha )

कहा जाता है कि इसी दिन यमराज से राजा हिम के पुत्र की रक्षा उसकी पत्नी ने किया था, जिस कारण दीपावली से दो दिन पहले मनाए जाने वाले ऐश्वर्य का त्यौहार धनतेरस पर सायंकाल को यम देव के निमित्त दीपदान किया जाता है। इस दिन को यमदीप दान भी कहा जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज के कोप से सुरक्षा मिलती है और पूरा परिवार स्वस्थ रहता है। इस दिन घरों को साफ-सफाई, लीप-पोत कर स्वच्छ और पवित्र बनाया जाता है और फिर शाम के समय रंगोली बना दीपक जलाकर धन और वैभव की देवी मां लक्ष्मी का आवाहन किया जाता है।

Diwali 2019 Pujan and Muhurt

Diwali 2019 Pujan and Muhurt

Diwali 2019 Pujan and Muhurt, लक्ष्मीजी के पूजन पूजा की विधि

Diwali Date 2019

Sunday, 27 October
However, This year, Diwali will be celebrated on Sunday, October 27, 2019. In some states, Diwali 2019 will be celebrated on Monday, October 28.

Diwali Pujan Time 2019

Lakshmi Puja on Sunday, October 27, 2019
Lakshmi Puja Muhurat – 07:08 PM to 08:22 PM
Duration – 01 Hour 14 Mins.
Pradosh Kaal – 05:56 PM to 08:22 PM
Vrishabha Kaal – 07:08 PM to 09:11 PM
Amavasya Tithi Begins – 12:23 PM on Oct 27, 2019
Amavasya Tithi Ends – 09:08 AM on Oct 28, 2019

How to do Lakshmi Pujan This Diwali in Hindi

लक्ष्मी पूजा को प्रदोष काल के दौरान किया जाना चाहिए जो कि सूर्यास्त के बाद प्रारम्भ होता है| और लगभग २ घण्टे कुछ मिनट तक रहता है। कुछ स्त्रोत लक्ष्मी पूजा को करने के लिए महानिशिता काल भी बताते हैं। हमारे विचार में महानिशिता काल तांत्रिक समुदायों और पण्डितों,महापंडितों , जो इस विशेष समय के दौरान लक्ष्मी पूजा के बारे में अधिक जानते हैं, उनके लिए यह समय ज्यादा उपयुक्त होता है। सामान्य लोगों के लिए हम प्रदोष काल मुहूर्त उपयुक्त हैं।


माता लक्ष्मीजी के पूजन की सामग्री अपने सामर्थ्य के अनुसार होना चाहिए। इसमें लक्ष्मीजी को कुछ वस्तुएँ विशेष प्रिय हैं। उनका उपयोग करने से वे शीघ्र प्रसन्न होती हैं। इनका उपयोग अवश्य करना चाहिए। वस्त्र में इनका प्रिय वस्त्र लाल-गुलाबी या पीले रंग का रेशमी वस्त्र है।

माताजी को पुष्प में कमल व गुलाब प्रिय है। फल में श्रीफल, सीताफल, बेर, अनार व सिंघाड़े प्रिय हैं। सुगंध में केवड़ा, गुलाब, चंदन के इत्र का प्रयोग इनकी पूजा में अवश्य करें। अनाज में चावल तथा मिठाई में घर में बनी शुद्धता पूर्ण केसर की मिठाई या हलवा,नैवेद्य उपयुक्त है।

प्रकाश के लिए गाय का घी, मूंगफली या तिल्ल का तेल इनको शीघ्र प्रसन्न करता है। अन्य सामग्री में गन्ना, कमल गट्टा, खड़ी हल्दी, बिल्वपत्र, पंचामृत, गंगाजल, ऊन का आसन, रत्न आभूषण, गाय का गोबर, सिंदूर, भोजपत्र का पूजन में उपयोग करना चाहिए।

लक्ष्मीजी के पूजन पूजन की तैयारी कैसे करे


चौकी पर लक्ष्मी व गणेश की मूर्तियां इस प्रकार रखें कि उनका मुख पूर्व या पश्चिम में रहे। लक्ष्मीजी, गणेशजी की दाहिनी ओर रहें। पूजनकर्ता मूर्तियों के सामने की तरफ बैठें। कलश को लक्ष्मीजी के पास चावलों पर रखें। नारियल को लाल वस्त्र में इस प्रकार लपेटें कि नारियल का अग्रभाग दिखाई देता रहे व इसे कलश पर रखें।

दो बड़े दीपक रखें और उसमे घी टिल तेल डेल । एक को चौरबाती बनाये घी भरें व दूसरे में तेल। एक दीपक चौकी के दाईं ओर रखें व दूसरा मूर्तियों के चरणों में। इसके अतिरिक्त एक दीपक गणेशजी के पास रखें।

मूर्तियों वाली चौकी के सामने छोटी चौकी(आम की लकड़ी ) रखकर उस पर लाल वस्त्र बिछाएं। कलश की ओर एक मुट्ठी चावल से लाल वस्त्र पर नवग्रह की प्रतीक नौ ढेरियां बनाएं। गणेशजी की ओर चावल की सोलह ढेरियां बनाएं। ये सोलह मातृका की प्रतीक हैं। नवग्रह व षोडश मातृका के बीच स्वस्तिक का चिह्न बनाएं।और केंद्र में ॐ जरूर लिखे |

इसके बीच में सुपारी रखें व चारों कोनों पर चावल की ढेरी। सबसे ऊपर बीचोंबीच ॐ लिखें। छोटी चौकी के सामने तीन थाली व जल भरकर कलश रखें। थालियों की निम्नानुसार व्यवस्था करें-
1. ग्यारह दीपक,
2. खील, बताशे, मिठाई, वस्त्र, आभूषण, चन्दन का लेप, सिन्दूर, कुंकुम, सुपारी, पान,
3. फूल, दुर्वा, चावल, लौंग, इलायची, केसर-कपूर, हल्दी-चूने का लेप, सुगंधित पदार्थ, धूप, अगरबत्ती, एक दीपक।

इन थालियों के सामने यजमान बैठे। आपके परिवार के सदस्य आपकी बाईं ओर बैठें। कोई आगंतुक हो तो वह आपके या आपके परिवार के सदस्यों के पीछे बैठे।वैसे आगुन्तको को पूजा में नही बैठना चाहिए

लक्ष्मीजी के पूजन चौकी


(1) लक्ष्मी, (2) गणेश, (3-4) मिट्टी के दो बड़े दीपक, (5) कलश, जिस पर नारियल रखें, वरुण (6) नवग्रह, (7) षोडशमातृकाएं, (8) कोई प्रतीक, (9) बहीखाता, (10) कलम और दवात, (11) नकदी की संदूकची, (12) थालियां, 1, 2, 3, (13) जल का पात्र, (14) यजमान, (15) पुजारी, (16) परिवार के सदस्य, (17) आगंतुक यदि हो ||

लक्ष्मीजी के पूजन पूजा की विधि


सबसे पहले पवित्रीकरण करें।सारे  घर में जल छिडक देवे ||

आप हाथ में पूजा के जलपात्र से थोड़ा सा जल ले लें और अब उसे मूर्तियों के ऊपर छिड़कें। साथ में मंत्र पढ़ें। इस मंत्र और पानी को छिड़ककर आप अपने आपको पूजा की सामग्री को और अपने आसन को भी पवित्र कर लें।

“ॐ पवित्रः अपवित्रो वा सर्वावस्थांगतोऽपिवा।
यः स्मरेत्‌ पुण्डरीकाक्षं स वाह्यभ्यन्तर शुचिः॥
पृथ्विति मंत्रस्य मेरुपृष्ठः ग षिः सुतलं छन्दः
कूर्मोदेवता आसने विनियोगः॥”

अब पृथ्वी पर जिस जगह आपने आसन बिछाया है, उस जगह को पवित्र कर लें और मां पृथ्वी को प्रणाम करके मंत्र बोलें-

“ॐ पृथ्वी त्वया धृता लोका देवि त्वं विष्णुना धृता।
त्वं च धारय मां देवि पवित्रं कुरु चासनम्‌॥
पृथिव्यै नमः आधारशक्तये नमः”

अब आचमन करें

पुष्प, चम्मच या अंजुलि से एक बूंद पानी अपने मुंह में छोड़िए और बोलिए-

“ॐ केशवाय नमः
और फिर एक बूंद पानी अपने मुंह में छोड़िए और बोलिए-
ॐ नारायणाय नमः
फिर एक तीसरी बूंद पानी की मुंह में छोड़िए और बोलिए-
ॐ वासुदेवाय नमः”

फिर ॐ हृषिकेशाय नमः कहते हुए हाथों को खोलें और अंगूठे के मूल से होंठों को पोंछकर हाथों को धो लें। पुनः तिलक लगाने के बाद प्राणायाम व अंग न्यास आदि करें। आचमन करने से विद्या तत्व, आत्म तत्व और बुद्धि तत्व का शोधन हो जाता है तथा तिलक व अंग न्यास से मनुष्य पूजा के लिए पवित्र हो जाता है।

आचमन आदि के बाद आंखें बंद करके मन को स्थिर कीजिए और तीन बार गहरी सांस लीजिए। यानी प्राणायाम कीजिए क्योंकि भगवान के साकार रूप का ध्यान करने के लिए यह आवश्यक है फिर पूजा के प्रारंभ में स्वस्तिवाचन किया जाता है। उसके लिए हाथ में पुष्प, अक्षत और थोड़ा जल लेकर स्वतिनः इंद्र वेद मंत्रों का उच्चारण करते हुए परम पिता परमात्मा को प्रणाम किया जाता है। फिर पूजा का संकल्प किया जाता है। संकल्प हर एक पूजा में प्रधान होता है।

लक्ष्मीजी के पूजन संकल्प 


आप हाथ में अक्षत लें, पुष्प और जल ले लीजिए। कुछ द्रव्य भी ले लीजिए। द्रव्य का अर्थ है कुछ धन। ये सब हाथ में लेकर संकल्प मंत्र को बोलते हुए संकल्प कीजिए कि मैं अमुक व्यक्ति अमुक स्थान व समय पर अमुक देवी-देवता की पूजा करने जा रहा हूं(गोत्र का जिक्र जरूर करे ) जिससे मुझे शास्त्रोक्त फल प्राप्त हों। सबसे पहले गणेशजी व गौरी का पूजन कीजिए। उसके बाद वरुण पूजा यानी कलश पूजन करनी चाहिए।

हाथ में थोड़ा सा जल ले लीजिए और आह्वान व पूजन मंत्र बोलिए और पूजा सामग्री चढ़ाइए। फिर नवग्रहों का पूजन कीजिए। हाथ में अक्षत और पुष्प ले लीजिए और नवग्रह स्तोत्र बोलिए। इसके बाद भगवती षोडश मातृकाओं का पूजन किया जाता है। हाथ में गंध, अक्षत, पुष्प ले लीजिए। सोलह माताओं को नमस्कार कर लीजिए और पूजा सामग्री चढ़ा दीजिए।

 

Saturn Transits to Natal Sun

Retrograde Saturn in Different Houses