Sagittarius Ascendant Vedic Astrology

First house Sun, Sagittarius Ascendant Vedic Astrology

Sagittarius Ascendant Vedic Astrology

First house Sun.

Sun is lord of 9th trikona house and is posited in friend’s house. It indicates long journeys, learning, wisdom, prudence, fortunate with strangers, foreigner’s, wife’s relations and voyages. Interest in science, invention, law, philosophy or political economy. Such persons are wealthy, respected, and blessed with power and authority. Long life, strained relations with friends.

First house Moon

Moon. The eighth lord in Lagna if not afflicted, one will be blessed with long life. The affliction of the stomach is indicated. Fond of art, adulterous, sweet spoken but spendthrift. Gain through lawsuits and matters connected with the deceased. Accumulation of wealth and gain through the business of others. Likelihood of some wounds on the body. Devoid of comforts from parents till young age. If Moon is afflicted, then it indicates short life, death by irregularity, trouble, and loss for others.

First house Mars 

The lord of 5th and 12th houses in friend’s camp. Complexion will be like copper. Many enemies and love affairs. Wealthy and man of power and authority. Afflicted health. A propensity to pleasure, a troubled life, on the whole, secret sorrows, limitations. All these difficulties can be minimized through occult or spiritual practice. The danger of imprisonment or disablement.

First house Mars Mercury

Mercury is lord of 7th house posited here in Lagna in enemy’s camp aspecting its own 7th house. Lord of 10th house in Lagna is good and will confer dignities, honors through merit, intelligent, good-natured and of good behavior. Wealthy and blessed with the comforts of life. High ambitions, gain through Govt.; unions, partnership, love of women and gain through them. Connection with the process of law. Such persons are found well versed in Mathematics and are connected with medical Science. One thing. I will say that since Mercury is lord of two kendras and so malefic but when afflicted will give the reverse results as indicated above.

Jupiter

Jupiter is also lord of two Kendra houses, 1st, and 4th but being Lagna lord it is benefit, when posited in own house in the Ascendant will confer wealth, respect, rank and authority to the native. One will be blessed with long life, fortunate inheritance, gain through land, property, power over enemies, owner of property and conveyance, good health, harmony and triumph over difficulties. Religious, generous and charitable. Judge the reverse if afflicted or combust.

Venus Lord of 6th and 11th houses (both malefic) in the Ascendant is in enemy’s house. This position being in Lagna will give an average length of life. Will hold a rank under the Govt; kidney trouble in old age is indicated. Difficulties and reversals in life and may face debt. But the native meets with real friends and supporters can overcome enemies and obstacles through the support of acquaintances. Fortunate actions and hopes are attained.

Saturn in Ascendant

is an enemy’s camp and lord of 2nd and 3rd houses. “Being lord of the 2nd house gives good results but the lord of 3rd malefic. Saturn weak in this case is very benefited and makes the person millionaire” vide author’s book, “Saturn, a friend or Foe?”.
So it will make one wealthy, of good position in life, comforts from wife and children, respected but devoid from the comforts of brothers, worried and gloomy face. Average intelligence helpful to others, any part of the body will become defective and worries on this account. Gain through writings and learnings.

Rahu in Lagna

of this ascendant confers honors, wealth and favor through religious, educational or scientific affairs. It adds power to the personality and gives the opportunity to self-expression. Foreign travel, a good progeny, respect and honor in foreign countries in old age.

Ketu in the Ascendant

is not good and gives short life unless aspected by Jupiter. One is devoid from comforts of ancestral property. Tribulations and difficulties in life may endanger face and eyes.

Lucky Wedding Dates 2019

uttarra bhadrapad ,Marriage Date January 2019

Lucky Wedding Dates 2019

Marriage Date January 2019

17 January, 2019 (Thursday)22:34 to 31: 18+RohiniDvashashi
18 January, 2019 (Friday)07:18 to 22:10Rohini, MrigashiraDvashashi, Triodshi
23 January, 2019 (Wednesday)07:17 to 13:40MaghaTritiya
25 January, 2019 (Friday)14:48 to 31: 16+Uttara Phalguni, HastaPanchami, Shashthi
26 January, 2019 (Saturday)07:16 to 15:05HastaShashthi
29 January, 2019 (Tuesday)15:15 to 27: 02+AnuradhaDashami

Marriage Date February 2019

1 February, 2019 (Friday) 07:13 to 21:08MulaDvashashi, Triodshi
8 February, 2019 (Friday)14:59 to 23:24Uttarra BhadrapadChaturthi
10 February, 2019 (Sunday)07:07 to 13:06Uttarra Bhadrapad , RevatiPanchami
15 February, 2019 (Friday)07:03 to 20:53MrigashīrshaDashami, Ekadashi
21 February, 2019 (Thursday)06:58 to 23:12Uttarara PhalguniDvitiya, Tritiya
23 February, 2019 (Saturday)22:47 to 30: 55+SvatiPanchami
24 February, 2019 (Sunday)06:55 to 22:03SvatiShashthi
26 February, 2019 (Tuesday)10:47 to 23:04AnuradhaAshtami
28 February, 2019 (Thursday)07:21 to 19:35MulaDashami

March Marriage Dates 2019

2 March, 2019 (Saturday)11:32 to 30: 48+Uttara AshadhDvashashi
7 March, 2019 (Thursday)20:54 to 30: 43+Uttarra BhadrapadPratipada, Dvitiya
8 March, 2019 (Friday)06:43 to 30: 41+Uttarra Bhadrapad, RevatiDvitiya, Tritiya
9 March, 2019 (Saturday)06:41 to 18:48RevatiThird
13 March, 2019 (Wednesday)06:37 to 28: 22+RohiniSaptami

April Marriage Dates 2019

16 April, 2019 (Tuesday)25: 51+ to 29: 58+Uttarara PhalguniTrayodashi
17 April, 2019 (Wednesday)05:58 to 18:32Uttarara PhalguniTrayodashi
18 April, 2019 (Thursday)14:58 to 19:26HastaChaturdashi
19 April, 2019 (Friday)19:30 to 29: 54+SvatiPratipada
20 April, 2019 (Saturday)05:54 to 17:58SvatiPratipada, Dvitiya
22 April, 2019 (Monday)11:24 to 16:46AnuradhaChaturthi
23 April, 2019 (Tuesday)25: 00+ to 29: 51+MulaPanchami
24 April, 2019 (Wednesday)05:51 to 18:35MulaPanchami, Sashthi
25 April, 2019 (Thursday)25: 39+ to 29: 49+Uttara AshadhaSaptami
26 April, 2019 (Friday)05:49 to 23:15Uttara AshadhaSaptami, Ashtami

May Marriage Dates 2019

2 May, 2019 (Thursday)05:43 to 27: 20+Uttarra Bhadrapad, RevatiTrayodashi
6 May, 2019 (Monday)16:37 to 25: 15+RohiniDvitiya
7 May, 2019 (Tuesday)23:23 to 29: 39+MrigshiraTritia, Chaturthi
8 May, 2019 (Wednesday)05:39 to 13:40MrigshiraChaturthi
12 May, 2019 (Sunday)17:33 to 29: 35+MaghaNavami
14 May, 2019 (Tuesday)08:53 to 23:47Uttarara PhalguniDashami, Ekadashi
15 May, 2019 (Wednesday)10:35 to 29: 34+HastaDvashashi
17 May, 2019 (Friday)17:38 to 27: 08+SvatiChaturdashi
19 May, 2019 (Sunday)13:07 to 26: 07+AnuradhaPratipada
21 May, 2019 (Tuesday)08:45 to 13:25MulaTritia
23 May, 2019 (Thursday)05:30 to 29: 30+Uttara AshadhPanchami, Sashthi
28 May, 2019 (Tuesday)18:59 to 26: 29+Uttarra BhadrapadDashee
29 May, 2019 (Wednesday)15:21 to 29: 28+Uttarra Bhadrapad, RevatiEkadashi
30 May, 2019 (Thursday)05:28 to 16:37RevatiEkadashi

June Marriage Dates 2019

8 June, 2019 (Saturday)22:59 to 29: 26+MaghaSashthi, Saptami
9 June, 2019 (Sunday)05:26 to 15:49MaghaSaptami
10 June, 2019 (Monday)14:21 to 29: 26+Uttara PhalguniAshtami, Navami
12 June, 2019 (Wednesday)06:08 to 11:51HastaDashee
13 June, 2019 (Thursday)25: 23+ to 29: 27+SvatiDvashashi
14 June, 2019 (Friday)05:27 to 10:17SvatiDvashashi
15 June, 2019 (Saturday)10:00 to 29: 27+AnuradhaTrayodashi, chaturdashi
16 June, 2019 (Sunday)05:27 to 10:07AnuradhaChaturdashi
17 June, 2019 (Monday)17:00 to 29: 27+MulaPratipada
June 18, 2019 (Tuesday)05:27 to 11:51MulaPratipada
19 June, 2019 (Wednesday)13:30 to 18:58Uttara AshadhDvitiya, Tritiya
25 June, 2019 (Tuesday)05:28 to 29: 29+Uttarra BhadrapadAshtami, Navami
26 June, 2019 (Wednesday)05:29 to 23:50RevatiNavami

Marriage Dates 2019 July

6 July, 2019 (Saturday)13:09 to 21:52MaghaPanchami
7 July, 2019 (Sunday)20:14 to 29: 33+Uttarara PhalguniShastri

Marriage Dates 2019 November

8 November, 2019 (Friday)12:24 to 30: 42+Uttarra BhadrapadDvashashi
9 November, 2019 (Saturday)06:42 to 30: 43+Uttarra Bhadrapad, RevatiDvashashi, Triodshi
10 November, 2019 (Sunday)06:43 to 10:43RevatiTrayodashi
14 November, 2019 (Thursday)09:14 to 30: 47+Rohini, MrigashiraDvitiya, Tritiya
22 November, 2019 (Friday)09:01 to 30: 53+Uttara Phalguni, HastaEkadashi
23 November, 2019 (Saturday)06:53 to 14:45HastaDvashashi
24 November, 2019 (Sunday)12:48 to 25: 05+SvatiTrayodashi
30 November, 2019 (Saturday)18:04 to 31: 00+Uttara AshadhPanchami

 

5 December, 2019 (Thursday)20:08 to 31: 04+Uttarra BhadrapadNavami, Dashami
6 December, 2019 (Friday)07:04 to 16:32Uttarra BhadrapadDashami
11 December, 2019 (Wednesday)22:54 to 31: 08+RohiniPurnima
12 December, 2019 (Thursday)07:08 to 30: 19+MrigshiraPurnima

Holi festival dates between 2015 & 2025

Sri Sainatha Mahima Stotram

sri sainatha, sainatha, Sri Sainatha Mahima Stotram

Sri Sainatha Mahima Stotram

Sada satsavarupam cidananda kandam jagatsambhavasthana samhara he tum Svabhaktecchaya manusam darsyamtam, namamisvaram sadgurum sainatham. Bhavadhvantavidvamsa martandamidayam manovaggatitam munirdhyanagamyam Jagat-vyapakam nirmalam nirgunam tvam, namamisvaram sadgurum sainatham. Bhavbambhodhi magnarditanam jananam, svapada-sritanam svabhaktipriyanam Samudharanartha kalau sambhavantam, namamisvaram sadgurum sainatham. Sada nimbavrksasya muladhivasat sudhastravinam titka mapya priyam tam Tarun kalpavrksadhikam sadhayantam, namamisvaram sadgurum sainatham. Sada kalpavrksasya tasyadhimule bhavedbhavabuddhaya saparyadhisevaam Nrnam kurvathaam bhuktimukti ptadam tam, namamisvaram sadgurum sainatham. Anekasruta tarkya lilavilasaih, samaviskrtesana bhasvatprabhavam Ahambhavahinam prasannatmabhavam, namamisvaram sadgurum sainatham. Satam visrama rama mevabhiramam, sada sajjanaih Sanstutam sannamaddhih, Janamodadam bhaktabhadra-pradham tam, namamisvaram sadgurum sainatham. Ajanmadhyamekham param brahma saksat svayam sambhavam ramameva vathirnam Bhavadarsanatsam Punitah praboham, namamisvaram sadgurum sainatham. Sri Saisa Krpanidhe khiladrnam sarvarthasiddhiprada Yusmatpadarajah prabhavamatulam dhatapivakta kshamah Sadbhaktya saranam krtanjaliputah samprapito-smi Prabho, Srimat Sau paresapada-kamalannanyaccharanyam mama. Sairupadhara Raghavottamam bhakta kama vibhudha dhrumam Prabhum. Mayayopahatacitta suddhaye, cintaya myahamaharnisam-muda. Saratsudhamsu pratima-prakasham, kripatapatram tava sainatha Tvadhiyapadabja samsritanam svacchayay tapamapakarotu. Upasanadaivata Sainatha, stavair mayopasanina stutastvam Ramenmano me tava padayugme, bhrngo, yathabje makarandalubdhah. Anekajanmarjita papasankshyo, bhavedhbhavatpada saroja darsanat Ksamsva sarvana paradha punjakan prasida Saisa Guro dayanidhe. Sri Sainatha caranamrta puta cittastatpada sevanaratah satatam ca bhaktya Sansara janya duritau dhavinir gathaste kaivalyadhama paramam samavapnuvanti. Stotrametatpathedbhaktya yo narastanmanah sada Sadguru Sainathasya krpa patram bhaved dhruvam. Sainatha krpa sarvadrusatpadya kusumavalih Sreyase ca manah sudhyai premasutrena gumfita. Govindasuriputrena Kasinathabhidhayina Upasanityupakhyena Sri Sai Gurave’ rpita.

Sai Baba Temple is Present in Shirdhi Which is placed in Mahrarastha and shirdi is village of Ahamdnagar, Direct flight and train buses are available to go there.
Shirdi Sai Baba is Very Big trust in india there are many bhakt giving services.

Aarti Sai Baba English Lyrics

Aarti Sai Baba English Lyrics

Aarti Sai Baba English Lyrics

Arati Sai Baba. Saukhyadatara Jiva.

Caranarajatali Dyava dasa visava, bhakta visava Aarti…

Jaluniya ananga. Sasvarupi rahe danga Mumuksa janan davi.

Nija dola Sriranga. Dola Sriranga Aarti…

Jaya mani jaisa bhava.

Tayataisa anubhava Davisi dayaghana, Aisi tuzi he mava, tuzi he mava. Aarti…

Tumace nama dhyata.

Hare Sansruthivyatha Agadha Tava karani. Marga davisi anatha, davisi anatha. Aarti…

Kaliyuga Avatara, Saguna Brahma sachara Avatirna zalase Svami Datta Digambara, Datta Digambara. Aarti…

Athan Divasa Gurvari.Bhakta kariti vari.

Prabhupada Pahavaya Bhava Bhayanivari, bhayanivari. Aarti…

Maza nijadravya theva, Thava carana-raja-seva Magane heci aata, Tumhan devadideva, devadideva. Aarti…

Ichita Dina chatak Nirmala toya nijasukha Pajaven Madhava Ya Sambhala apuli bhaka, apuli bhaka. Aarti…

 

Sai Baba Prarthana

Karacharanakrtam vakkayajam karmajam va Sravananayanajam

va manasam va’ paradham Viditamaviditam va sarvametatksamasva.

Jaya Jaya karunabdhe Sri Prabho Sainatha Sri sacchidananda sadguru Sainatha maharaja ki Jai.

Aum Rajadhiraja Yogiraja Parabrahma Sainatha Maharaja Sri sacchidananda sadguru Sainatha maharaja ki Jai.

 

Sai Baba of Shirdi

also known as Shirdi Sai Baba, was an Indian spiritual master who is regarded by his devotees as a saint, a fakir, a satguru and an incarnation (avatar) of Lord Shiva and Dattatreya.

He is revered by both his Hindu and Muslim devotees during, as well as after his lifetime.

Saibaba is now revered as an incarnation of Sri Dattatreya and considered as Saguna Brahma. He is attributed to be the creator, sustainer, and destroyer of this universe by his devotees.

He is decorated with jewels and all forms of Hindu Vedic deities as he is believed by his followers to be the supreme God. 

Shani Samhita शनि संहिता

Sarvartha Siddhi Yoga Meaning

Sarvartha Siddhi Yoga Meaning

Peer ko bulane ka mantra in Hindi

Peer ko bulane ka mantra in Hindi

Peer ko bulane ka mantra in Hindi

इबादत का मंत्र 

या ख्वाजा गरीब नवाज़  सरकार अल मदद 

ये अपने आप में चमत्कारिक है और इसका लगातार जाप करने से आप स्वयं पीर का दर्ज हासिल कर सकते है एक समय ऐसा आता है की आपको अजमेर शरीफ के मुरीदो के दर्शन प्राप्त होने लगेंगे  कई मंत्र आपको उनसे स्वयं मिलने लगेंगे |

जब जाप समाप्त करके उठने वाले हो तब ख्वाजा साहब को इस तरह सलाम पेश करे |

 साहब को  सलाम

शाहो के शाह को सलाम ,पीरने पीर को सलाम ,हिन्दल वली को सलाम आपके बुजुर्गाने दीं को सलाम , आपके चाहने वालो को सलाम , आपके पीर ओ मुर्शिद को सलाम 

जहां सभी तंत्रो में तीक्ष्ण सुलेमानी तंत्र को माना गया है क्यू के इस में सिद्धि जल्द और तीक्ष्ण होती है ऐसा नहीं है के बाकी तंत्र प्रभावकारी नहीं क्यू के तंत्र का अर्थ ही तंत्र है जहां मंत्रो से प्रार्थना की जाती है और तंत्र  होने के कारण समस्या का निवारण करता ही है क्यू के किरिया का अर्थ करना मतलव काम किया और हो गया इस लिए तंत्र दीनता नहीं सिखाता मतलव समस्या के आगे झुकना नहीं जहां एक बहुत ही प्रभाव कारी साधना दे रहा हु जो सुलेमानी साधना जैसी है|

 यह एक बहुत ही पाक पंज तन पाक का कलाम है इसे पूर्ण पावित्रता से करे, ये साधना आपको तंत्र बाधाओं से बचा कर रखेगी और आपको जीवन में सफलता का मार्ग दिखाएगी

जिस कमरे में आप साधना कर रहे हो उसे अशी तरह साफ करे पोचा वैगरा लगा कर जा धो ले फिर शूकल पक्ष के प्रथम जुम्मा को इस साधना को शुरू करे और 21 दिन करनी है

वस्त्र सफ़ेद पहने और सफ़ेद आसान का उपयोग करे  दिशा पशिम और इस तरह बैठे जैसे नवाज के वक़्त बैठा जाता है  सिर टोपी जा सफ़ेद रुमाल से ढक कर बैठे अगरवती लगा दे और साधना के वक़्त जलती रहनी चाहिए दिये की कोई जरूरत नहीं है फिर भी लगाना चाहे तो तेल का दिया लगा सकते है सर्व पर्थम गुरु पूजन कर आज्ञा ले फिर एक माला गुरु मंत्र करे और निमन मंत्र की पाँच माला जप सफ़ेद हकीक माला से करे साधना के बीच बहुत अनुभव हो सकते है मन को सथिर रखते हुए जप पूर्ण करे जिस कमरे में साधना कर रहे हो वहां कोई शराब पीकर न आए इस बात का विशेष ख्याल रखे जप उल्टी माला से करे न माला हो तो एक घंटा करे|

Daksh Prajapati and Bhagwan Shiva Story

Daksh Prajapati and Bhagwan Shiva Story

Daksh Prajapati and Bhagwan Shiva Story

दक्ष प्रजापति सृष्टि निर्माता भगवान ब्रह्मा के मानस पुत्र थे राजा दक्ष के दो पुत्र, 84 पुत्रियाँ थी, दक्ष प्रजापति ने पानी 27 कन्याओं का विवाह चंद्रदेव के साथ किया था, इन 27 कन्याओं में रोहिणी सबसे अधिक सुन्दर थीं, चन्द्रमा रोहिणी से सर्वाधिक प्रेम करते थे और अन्य 26 पत्नियों की अनदेखी करते थे उन कन्याओं ने यह बात अपने पिता दक्ष को बताई. दक्ष बहुत दुखी हुए, उन्होंने चन्द्रमा को आमंत्रित किया, उन्होंने चन्द्रमा से इस अनुचित व्यव्हार के लिए सावधान किया, चन्द्रमा ने अपनी गलती स्वीकार कर ली और वचन दिया कि वो भविष्य में ऐसा भेदभाव नहीं करेंगे

परन्तु ऐसा हुआ नहीं, चन्द्रमा ने अपना भेदभावपूर्ण व्यव्हार जारी रखा दक्ष की कन्यायें क्या करती, उन्होंने पुनः अपने पिता को इस सम्बन्ध में सूचित किया इस बार दक्ष ने चंद्रलोक जाकर चन्द्रदेव को समझाने का निर्णय लिया दक्ष प्रजापति और चन्द्रमा की बात इतना बढ़ गयी कि अंत में क्रोधित दक्ष ने चन्द्रदेव को कुरूप होने का श्राप दे दिया

श्राप का असर दिखने लगा और दिन-प्रतिदिन चन्द्रमा की सुन्दरता और तेज घटने लगा. एक दिन नारद मुनि चन्द्रलोक पहुंचे तो चन्द्रमा ने उनसे इस श्राप से मुक्ति का उपाय पूंछा, नारदमुनि ने चन्द्रमा से कहा कि वो श्राप मुक्ति के लिए भगवान शिव से प्रार्थना करें

चन्द्रमा यह बात जानते थे

कि भगवान शिव का विवाह सती से होने वाला है उन्हें लगा कि शिव उनकी सहायता क्यों ही करेंगे. नारद मुनि चतुर तो थे ही, उन्होंने उपाय बताया कि पहले शिव जी से कहना कि आप मेरी रक्षा करने का वचन दें. जब शिव हाँ कर दें तो दक्ष के श्राप की बात बताना, शिव अपने वचन की रक्षा करते हुए तुम्हारा कल्याण अवश्य करेंगे नारद मुनि के कहे अनुसार चंद्रदेव ने किया और शिव ने उन्हें श्रापमुक्त किया

कुछ दिन बाद नारद घूमते हुए दक्ष के दरबार में पहुंचे और उन्होंने चन्द्रमा की श्रापमुक्ति के बारे में उन्हें बताया दक्ष को बड़ा क्रोध आया कि उनके श्राप को किसने विफल कर दिया नारदजी से जानकर दक्ष शिव से युद्ध करने कैलाश पर्वत पहुँच गये शिव और दक्ष का युद्ध होने लगा इस युद्ध को रोकने के लिए ब्रह्मा और भगवान शिव वहां पहुंचे भगवान ब्रह्मा ने चन्द्रमा के शरीर से एक नए चन्द्रमा की उत्पत्ति कर दी

भगवान विष्णु ने कहा कि – दक्ष के श्राप अनुसार पहले चंद्रमा की सुन्दरता कुछ दिन घटेगी और कुछ दिन बढ़ेगी, साथ ही चन्द्रमा को अपनी पत्नियों से समानता का व्यवहार करना होगा , शिव जी के वरदान प्राप्त दूसरे चन्द्रमा को शिव के साथ रहना होगा

यह प्रकरण तो समाप्त हुआ पर दक्ष ने मन ही मन निर्णय ले लिया कि वो सती का विवाह शिव से नहीं करेंगे

 

Indrakshi Stotram in Hindi

Indrakshi Stotram in Hindi

इन्द्राक्षी स्तोत्रम्

ॐ अस्य इन्द्राक्षी स्तोतमहामन्त्रस्य शचीपुरन्दर ऋषिः

अनुष्टुप् छन्दः। इन्द्राक्षी देवता । महालक्ष्मिर्बीजम् । भुवनेश्वरी शक्तिः ।

महेश्वरी कीलकम् । इन्द्राक्षी देवी प्रसाद सिर्द्ध्य्थे जपे विनियोगः ।

अथ करन्यासः

ॐ इन्द्राक्षी अंगुष्टाभ्यां नमः।

ॐ महालक्ष्मी तर्जनीभ्यां नमः।

ॐ महेश्वरी मध्यमाभ्यां नमः।

ॐ अम्बुजाक्षीं अनामिकाभ्यां नमः।

ॐ कात्यायनीं कनिष्ठकाभ्यां नमः।

ॐ कौमारीं करतलकरपृष्ठाभ्यां नमः।

 

अथ अंगन्यास

ॐ इन्द्राक्षी ह्रदयाय नमः।

ॐ महालक्ष्मी शिरसे स्वाहा।

ॐ महेश्वरी शिखायै वषट् ।

ॐ अम्बुजाक्षीं कवचाय हुं ।

ॐ कात्यायनीं नेत्रत्रयाय वौषट् ।

ॐ कौमारीं अस्त्राय फट् ।

।। भू-र्भूवस्सुवरोमिति दिग्बन्धः ।।

 

।।अथ ध्यानम् ।।

नेत्राणां दशभिश्शतैः परिवृत्यामत्युग्र चर्माम्बरां ।

हेमाभां महतीं विलम्बित शिखा मा मुक्तिकेशान्वितां

 

घण्टामण्डित पादपद्य्मयुगलां नागेन्द्रकुम्भस्तनीं ।

इन्द्राक्षी परिचिन्तयामि सततं प्रत्यक्ष सिद्धिप्रदाम् ।।

 

इन्द्राक्षीं द्विभुजां देवीं पीतवस्त्रद्वयान्वितां ।

वामहस्ते वज्रधरां दक्षिणेन वरप्रदाम् ।

 

इन्द्राक्षीं नौमि युवतीं नानालंकार भूषितां ।

प्रसन्न वदनाम्भोजामप्सरो – गणसेविताम् ।।

 

।। इन्द्र उवाच ।।

इन्द्राक्षी पूर्वतः पातुपातुग्रेय्यां पथेश्वरी ।

कौमारी दक्षिणे पातु नैर्ऋत्यां पातु पार्वती ।।

 

वाराही पश्चिमे पातु वायव्ये नारसिंह्यपि ।

उदीच्यां कालरात्रिर्मामीसन्यां सर्वशक्तयः ।।

 

भैरव्यूर्ध्व सदा पातु पात्वधो वैष्णवी तथा ।

एवं दशादिशो रक्षेत्सर्वांग भुवनेश्वरी ।।

 

इन्द्राक्षी नाम सा देवी दैवतैः समुदाह्रता ।

गौरी साकम्वरी देवी दुर्गानाम्नीति विश्रुता ।।

 

कात्यायनी महादेवी चण्डघण्टा महातपा ।

सावित्री सा च गायत्री ब्राह्मणी ब्रह्मवादिनी ।।

 

नारायणी भद्रकाली रुद्राणी कृष्ण पिंघला ।

अग्रिज्वाला रौद्रमुखी कालरात्री तपस्विनी ।।

 

मेघस्वना सहस्राक्षी विकटांगी जडोदरी ।

महादरी मुक्तकेशी घोररुपा महाबला ।।

 

अजिता भद्रदाऽनन्ता रोगहत्री शिवप्रिया ।

शिवदूती काराली च शक्तिश्च परमेश्वरी ।।

 

आर्या दक्षायणी चैव गिरिजा मेनकात्मजा ।

महिषासुर संहारी चामुण्डा सप्तमातृका ।।

 

सर्वरोगी परस्मनी नारायणी नमोऽस्तुते ।

इन्द्राणी चेन्द्ररुपा च इन्द्रशक्तिः परायणी ।।

 

वाराही नारसिंही च भीमा भैरव नादिनी।

 

सदा संमोहिनी देवी सुन्दरी भुवनेश्वरी ।

एकाक्षरी महामायी एकांगी एकनायकी ।।

 

कोमल श्यामलारुपी कोटिसूर्यप्रकाशनी ।

श्रुतिः स्मृतिधृतिर्मेधा विद्या लक्ष्मी सरस्वती ।।

 

अनन्ता विजयाऽपर्णा मानस्तोकाऽपराजिता ।

भवानी पार्वती दुर्गा हैमवत्यम्बिका जया ।।

 

शिवा भवानी रुद्राणी शंक्करार्धशरीरिणी ।

ऐरावत गजारुढा वज्रहस्ता धर्नुधरा ।।

 

ऐन्द्री देवी सदाकालं शान्तिमाशु करोतु मे ।

ऐतैर्नाम पदैर्दिव्यैः स्तुता सक्रेण धीमता ।

 

आयुरारोग्यमैश्वर्यमपमृत्युभयापहं ।

क्षयाऽपस्मारकुष्ठादि तापज्वर निवारणं ।।

 

शीतज्वर निवारणं उष्णज्वर निवारणं ।

 

सन्निज्वर निवारणं सर्वज्वर निवारणं ।

सर्वरोग निवारणं सर्वशत्रु निवारणं ।।

 

महाभय निवारणं मनःक्लेश निवारणं ।

शतमावर्तयेद्यस्तु मुच्यते व्याधि बन्धनात् ।।

 

आवर्तन् सहस्रं तु लभते वाच्छितं फळं ।

 

ऐतत् स्तोत्रं जपन्नेत्यं सर्वव्याधिविनाशनं ।

रणे राजभये चोरे सर्वत्र विजयी भवेतु ।।

 

सर्व मंङ्ळ मांङ्गल्ये शिवे सर्वाध साधिके ।

शरण्ये त्रयम्बिके गौरी नारायणी नमोऽतुते ।।

 

त्रिपादभस्म् प्रहरणस्रिशिरा रक्तलोचनः ।

स मे प्रीतः सुखम् दद्यात् सर्वामय पतिर्ज्वरः ।।

 

ज्वरं च ज्वरसारं च ज्वरातीसारमेव च ।

सन्निपात ज्वरं चैव शीतोष्ण ज्वरमेव च ।

 

कौबेरन्तं मुखे रौद्रे नन्दिमन्दिमवाह ।

ज्वरं मृत्युभयं घोरं ज्वरं नाशयं मे ज्वर ।

 

भस्मायुधाय विद्य्महे रक्तनेत्राय धीमहि ।

तन्नो ज्वरः प्रचोदयात् ।।

 

ज्वरराजाय विद्य्महे त्रिशिरस्काय धीमहि ।

तन्नस्रिपात् प्रचोदयात् ।।

 

मृत्योस्तुल्यं त्रिलोकीं ग्रसितु मातिरसान्निस्मृताः

किं नु जिह्वाः किं वा कृष्णांघ्रिपद्य्मद्युतिभि-

रुरुणिता विष्णुपद्याः पदव्यः ।

प्राप्ताः संध्याः स्मरारेः स्वयमतु

नुतिभिस्तिस्र इत्यूह्यमानाः

दिव्यैर्देवा स्रिशूलक्षत-

महिषजुषो रक्तधारा जयन्ति ।।

 

मातर्मे मधुकैटभग्नि महिषप्राणापहारोद्यमे

हेला निर्मित-धूम्रलोचन-वधे हे चण्डमुण्डार्दिनि ।

निःशेषीकृत – रक्तबीजदनुजे नित्ये निशुम्भापहे

शुम्भध्वंसनि संहराशु दुरितं दुर्गे नमस्तेऽम्बिके ।।

 

अष्टौ भुजांङगी महिषस्य मर्दिनीं

सशंखचक्रां शरशूलधारिणीं ।

तां दिव्ययोगीं सहजातवेदसीं

दुर्गां सदाऽहं शरणं प्रपद्ये ।।

 

महिषमस्तक नृतविनोदन-

स्फुटरणन्मणिनूपुरमेखळा ।

जननरक्षणमोक्षनविधायनी

जयतु शुम्भनिशुम्भनिषूदिनी ।।

 

ब्रह्माणी कमळेन्दुसौम्यवदना महेश्वरी लीलया

कौमारी रिपुदर्पनाशकरी चक्रायुधा वैष्णवी ।

वाराही घनघोरघर्घरमुखी द्रंष्टी च चक्रयुधा

चामुण्डा गणनाथरुद्रसंहिता रक्षन्तु मां मातरः ।।

 

उद्धतौ मधुकैटभौ महिषासुरं तु निहत्य तं

धूम्रलोचन- चण्डमुण्डक – रक्तबीजमुखांश्च तान् ।

दुष्ट – शुम्भनिशुम्भमर्दिनी नन्दितामरवन्दिते

विष्टपत्रय – पुष्टिकारिणी भद्रकाली नमोऽस्तुते ।।

 

लक्ष्मी – प्रदान – समये नवविद्रुमाभां

विद्या – प्रदान – समये शरदिन्दु शुभ्रां ।

विद्वेषि वर्ग विजयेऽपि तमाल – नीलां

देवीं त्रिलोक – जननीं शरणं प्रपद्ये ।।

 

।। श्री महादेव्यै नमः ।।

इन्द्राक्षीस्तोत्रं सम्पूर्णम् ।। (श्री मार्कण्डेय पुराणम्

देवीसूक्त : या देवी सर्वभूतेषु

Chaiti Chhath Puja 2018 Date Muhurt

Chaiti Chhath Puja 2018 Date Muhurt

Chaiti Chhath Puja 2018 Date Muhurt

छठ पूजा तिथि व मुहूर्त 2018

13 नवंबर

छठ पूजा के दिन सूर्योदय – 06:41

छठ पूजा के दिन सूर्यास्त – 17:28

षष्ठी तिथि आरंभ – 01:50 (13 नवंबर 2018)

षष्ठी तिथि समाप्त – 04:22 (14 नवंबर 2018)

 इस बार रविवार 11 नवंबर को नहाय-खाए पर सिद्धि योग का संयोग बन रहा है। साथ ही सांझ के अर्घ्यवाले दिन यानी 13 नवंबर को अमृत योग व सर्वार्थ सिद्धि योग का संयोग बन रहा है। जबकि छठ के अंतिम दिन अर्थात प्रात:कालीन अर्घ्य पर बुधवार 14 नवंबर को सुबह के समय छत्र योग का संयोग बन रहा है। हिंदू धर्म में सूर्य को जल देने का बहुत महत्व है और छठ पूजा के पावन पर्व पर ढलते और उगते हुए सूर्य को अर्घ्य देने से कई पापों का नाश होता है।

छठ पूजा का पर्व चार दिनों तक चलता है

छठ पूजा का पहला दिन नहाय खाय – छठ पूजा का त्यौहार भले ही कार्तिक शुक्ल षष्ठी को मनाया जाता है लेकिन इसकी शुरुआत कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को नहाय खाय के साथ होती है। मान्यता है कि इस दिन व्रती स्नान आदि कर नये वस्त्र धारण करते हैं और शाकाहारी भोजन लेते हैं। व्रती के भोजन करने के पश्चात ही घर के बाकि सदस्य भोजन करते हैं।

दूसरा दिन खरना – कार्तिक शुक्ल पंचमी को पूरे दिन व्रत रखा जाता है व शाम को व्रती भोजन ग्रहण करते हैं। इसे खरना कहा जाता है। इस दिन अन्न व जल ग्रहण किये बिना उपवास किया जाता है। शाम को चाव व गुड़ से खीर बनाकर खाया जाता है। नमक व चीनी का इस्तेमाल नहीं किया जाता। चावल का पिठ्ठा व घी लगी रोटी भी खाई प्रसाद के रूप में वितरीत की जाती है।

षष्ठी के दिन छठ पूजा का प्रसाद बनाया जाता है। इसमें ठेकुआ विशेष होता है। कुछ स्थानों पर इसे टिकरी भी कहा जाता है। चावल के लड्डू भी बनाये जाते हैं। प्रसाद व फल लेकर बांस की टोकरी में सजाये जाते हैं। टोकरी की पूजा कर सभी व्रती सूर्य को अर्घ्य देने के लिये तालाब, नदी या घाट आदि पर जाते हैं। स्नान कर डूबते सूर्य की आराधना की जाती है।

छठ पूजन गीत

‘केलवा जे फरेला घवद से, ओह पर सुगा मे़ड़राय
काँच ही बाँस के बहंगिया, बहंगी लचकत जाए’
सेविले चरन तोहार हे छठी मइया। महिमा तोहर अपार।
उगु न सुरुज देव भइलो अरग के बेर।
निंदिया के मातल सुरुज अँखियो न खोले हे।
चार कोना के पोखरवा
हम करेली छठ बरतिया से उनखे लागी।

Dhanteras Puja, Dhanteras Meaning 2018

Dhanteras Puja, Dhanteras Meaning 2018

  1. धनतेरस की शाम को जब सूरज ढल जाए तो एक दीप जलाएं और उसमें करीब 13 कौड़ियां रखें और उस दीप से मां लक्ष्मी और धनकुबेर की पूजा करें। आधी रात के बाद 13 कौड़ियां घर के किसी कोने में गाड़ दें। ये उपाय आपके घर में धन की बरसात ले कर आएगा।
  2. धनतेरस पर कुबेर यंत्र खरीदें और इसे अपने घर, दुकान के गल्ले या तिजोरी में स्थापित करें। इसके बाद 108 बार इस मंत्र ‘’ऊँ यक्षाय कुबेराय वैश्रववाय, धन-धान्यधिपतये धन-धान्य समृद्धि मम देहि दापय स्वाहा ‘’ का जाप करें। ये मंत्र आपके धन की कमी के संकट को हर लेगा।
  3. घर में चांदी के 13 सिक्के रखें और केसर-हल्दी लगाकर इसकी पूजा करें। इससे घर में बरकत बढ़ती है।
  4. धनतेरस पर 13 दीप घर के अंदर और 13 दीप घर के बाहर दहलीज और मुंडेर पर रखें।
  5. दीपावली पर लक्ष्मी पूजन में हल्दी की गांठ भी रखें। पूजा होने के बाद हल्दी की गांठ को घर में उस स्थान पर रखें, जहां धन रखा जाता है।
  6. दीपावली के दिन यदि संभव हो सके तो किसी किन्नर से उसकी खुशी से एक रुपया लें और इस सिक्के को अपने पर्स में रखें। बरकत बनी रहेगी।

वास्तु दोष के उपाय

  1. 1 धनतेरस या दीपावली पर महालक्ष्मी यंत्र का पूजन कर विधि-विधान पूर्वक इसकी स्थापना करें। यह यंत्र धन वृद्धि करता है।
  2. 2धनतेरस या दीपावली की सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि कामों से निपट कर किसी लक्ष्मी मंदिर में जाएं और मां लक्ष्मी को कमल के फूल अर्पित करें और सफेद रंग की मिठाई का भोग लगाएं। ये सबसे अचूक उपाय है।
  3. 3धनतेरस या दीपावली की शाम को घर के ईशान कोण में गाय के घी का दीपक जलाएं। बत्ती में रुई के स्थान पर लाल रंग के धागे का उपयोग करें। साथ ही दीए में थोड़ी केसर भी डालें।
  4. 4धनतेरस या दीपावली को विधिवत पूजा के बाद चांदी से निर्मित लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति को घर के पूजा स्थल पर रखना चाहिए। इसके बाद प्रतिदिन इनकी पूजा करने से घर में कभी धन की कमी नहीं होती और घर में सुख-शांति भी बनी रहती है।
  5. श्रीकनकधारा धन प्राप्ति व दरिद्रता दूर करने के लिए अचूक यंत्र है। यह यंत्र अष्टसिद्धि व नवनिधियों को देने वाला है। इसका पूजन व स्थापना भी धनतेरस या दीपावली के दिन करें।
  6. धनतेरस या दीपावली की रात को शुद्धता के साथ स्नान कर पीली धोती धारण करें और एक आसन पर उत्तर की ओर मुंह करके बैठ जाएं। अब अपने सामने सिद्ध लक्ष्मी यंत्र को स्थापित करें, जो विष्णु मंत्र से सिद्ध हो और स्फटिक माला से नीचे लिखे मंत्र का 21 माला जाप करें। मंत्र जाप के बीच उठे नहीं। ऊँ श्रीं ह्रीं श्रीं ऐं ह्रीं श्रीं का मंत्र पढ़ें।

Dhanteras Muhurt Time 2018

  • शुभ मुहूर्त की अवधि: 1 घंटा 55 मिनट
  • प्रदोष काल: शाम 5.29 से रात 8.07 बजे तक
  • वृषभ काल: शाम 6:05 बजे से रात 8:01 बजे तक
  • त्रयोदशी तिथि आरंभ: 5 नवंबर को सुबह 01:24 बजे
  • त्रयोदशी तिथि खत्म: 5 नवंबर को रात्रि 11.46 बजे

Dhanteras Pujan धनतेरस पूजन

धनतेरस के द‍िन इस मुहूर्त में करें खरीदारी

  • सुबह 07:07 से 09:15 बजे तक
  • दोपहर 01:00 से 02:30 बजे तक
  • रात 05:35 से 07:30 बजे तक

धनतेरस का त्यौहार और पूजन

धनतेरस का त्यौहार कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी को मनाया जाता है। इस दिन लोग भगवान धन्वन्तरि की पूजा करते हैं और यमराज के लिए दीप देते हैं। जोके भगवन शनि के भाई है |धनतेरस को धनत्रयोदशी के नाम से भी जाना जाता है । धनतेरस का पर्व आयुर्वेद के देवता के जन्मदिन के रूप में भी मनाया जाता है।जिनको धन्वन्तरि के नाम से जाना जाता है |

Dhanteras Mantra Hindi धनतेरस मंत्र

दीपदान के समय इस मंत्र का जाप करते रहना चाहिए:

मृत्युना पाशदण्डाभ्यां कालेन च मया सह।
त्रयोदश्यां दीपदानात सूर्यज: प्रीयतामिति॥

इस मंत्र का अर्थ है:

त्रयोदशी को दीपदान करने से मृत्यु, पाश, दण्ड, काल और लक्ष्मी के साथ सूर्यनन्दन यम प्रसन्न हों। इस मंत्र के द्वारा लक्ष्मी जी भी प्रसन्न होती हैं।
इस दिन संध्या के समय कूड़े पर दीपक जलाना बड़ा ही शुभ मन जाता है |और निम्न मंत्र का जाप किया है
ॐ शं काल कालाये यमहै नमः

प्रदोषकाल (Dhanteras Muhurat)

दीपक को प्रदोष काल में ही जलाना चाहिए क्योंकि इस दिन प्रदोषकाल के समय दीपदान देना शुभ माना जाता है। दीपदान का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 38 मिनट से लेकर रात्रि 8 बजकर 10 मिनट तक है। इस दिन कुबेर भगवान और लक्ष्मी जी की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 6 बजकर 04 मिनट से लेकर रात्रि 07 बजकर 06 मिनट तक है।

धनतेरस पर खरीद कैसे करे –

नई चीजों के शुभ आगमन के इस पर्व में मुख्य रूप से नए बर्तन या सोना-चांदी खरीदना चाहिए । आस्थावान भक्तों के अनुसार चूंकि जन्म के समय धन्वंतरि जी के हाथों में अमृत का कलश था, इसलिए इस दिन बर्तन खरीदना अति शुभ होता है। विशेषकर पीतल के बर्तन खरीदना बेहद शुभ माना जाता है।पीतल या कांसा का बर्तन बहुत ही शुभ  माना जाता है |

धनतेरस कथा (Dhanteras Katha )

कहा जाता है कि इसी दिन यमराज से राजा हिम के पुत्र की रक्षा उसकी पत्नी ने किया था, जिस कारण दीपावली से दो दिन पहले मनाए जाने वाले ऐश्वर्य का त्यौहार धनतेरस पर सायंकाल को यम देव के निमित्त दीपदान किया जाता है। इस दिन को यमदीप दान भी कहा जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज के कोप से सुरक्षा मिलती है और पूरा परिवार स्वस्थ रहता है। इस दिन घरों को साफ-सफाई, लीप-पोत कर स्वच्छ और पवित्र बनाया जाता है और फिर शाम के समय रंगोली बना दीपक जलाकर धन और वैभव की देवी मां लक्ष्मी का आवाहन किया जाता है।

 

Ahoi Ashtami 2019 Vrat Katha in Hindi

ahoi ashtami calendar, अहोई अष्टमी, Ahoi Ashtami 2019 Vrat Katha in Hindi

Ahoi Ashtami 2019 Vrat Katha in Hindi

अहोई अष्टमी  Ahoi Ashtami 2019

पुत्रों की भलाई के लिए माताएं अहोई अष्टमी के दिन सूर्योदय से लेकर गोधूलि बेला  तक उपवास करती हैं। शाम के वक्त आकाश में तारों को देखने के बाद व्रत तोड़ने का विधान है। चंद्र दर्शन में थोड़ी परेशानी होती है, क्योंकि अहोई अष्टमी की रात चन्द्रोदय देर से होता है। नि:संतान महिलाएं पुत्र प्राप्ति की कामना से भी अहोई अष्टमी का व्रत करती हैं।
 

अहोई अष्टमी Ahoi Ashtami 2019 व्रत विधि

 
इस दिन सुबह उठकर स्नान करने और पूजा के समय ही पुत्र की लंबी अायु और सुखमय जीवन के लिए अहोई अष्टमी व्रत का संकल्प लिया जाता है। अनहोनी से बचाने वाली माता देवी पार्वती हैं इसलिए इस व्रत में माता पर्वती की पूजा की जाती है। अहोई माता की पूजा के लिए गेरू से दीवार पर अहोई माता के चित्र के साथ ही स्याहु और उसके सात पुत्रों की तस्वीर भी बनाई जाती है। माता जी के सामने चावल की कटोरी,  मूली, सिंघाड़ा अादि रखकर कहानी कही और सुनी जाती है। सुबह पूजा करते समय लोटे में पानी और उसके ऊपर करवे में पानी रखते हैं। इसमें उपयोग किया जाने वाला करना वही होना चाहिए, जिसे करवा चौथ में इस्तेमाल किया गया हो। दिवाली के दिन इस करवे का पानी पूरे घर में भी छिड़का जाता है। शाम में इन चित्रों की पूजा की जाती है। लोटे के पानी से शाम को चावल के साथ तारों को अर्घ्य दिया जाता है। अहोई पूजा में चांदी की अहोई बनाने का विधान है, जिसे स्याहु कहते हैं। स्याहु की पूजा रोली, अक्षत, दूध व भात से की जाती है।
 

Ahoi Ashtami 2019 अहोई अष्टमी व्रत 2018 

 
अष्टमी तिथि प्रारम्भ – 31/अक्टूबर/2018 को 11.09 बजे
अष्टमी तिथि समाप्त – 1/नवम्बर/2018 को 09.10 बजे
 

अहोई अष्टमी पूजा मुहूर्त

 
अहोई अष्टमी पूजा मुहूर्त – शाम 5.32 से 6.51
अवधि – 1 घंटा 18 मिनट
तारों को देखने के लिये शाम का समय – 06.01
अहोई अष्टमी की रात चन्द्रोदय – 11.50
 
 

Ahoi ashtami calendar

Ahoi Ashtami 2019 Vrat Katha in Hindi